Home /News /bihar /

आनंद मोहन को रिहा नहीं करेगी नीतीश सरकार! मंत्री बोले- उम्रकैद वाले बंदियों को छोड़ने के मानदंड तय

आनंद मोहन को रिहा नहीं करेगी नीतीश सरकार! मंत्री बोले- उम्रकैद वाले बंदियों को छोड़ने के मानदंड तय

बाहुबली नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन  को अभी में जेल में रहना होगा. (फाइल)

बाहुबली नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन को अभी में जेल में रहना होगा. (फाइल)

Bihar News: बाहुबली नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन (Anand Mohan) को अभी जेल में ही रहना होगा. बाहुबली नेता की सजा पर बिहार सरकार ने कहा है कि आनंद मोहन की रिहाई संभव नहीं है क्योंकि वो एक डीएम के हत्या के दोषी हैं, इसलिए उन्हें परिहार (Expiation) नहीं दिया जा सकता है. राज्य सरकार के इस बात से स्पष्ट है कि बाहुबली नेता को अभी में जेल में रहना होगा. बता दें कि राजद विधायक चेतन के पिता आनंद मोहन ने 14 साल की सजा काट ली है, लेकिन अभी भी उनको रिहा नहीं किया गया है. 

अधिक पढ़ें ...

पटना. बाहुबली नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन (Anand Mohan) को फिलहाल कोई राहत मिलते नहीं दिख रहा है. बिहार सरकार ने साफ कर दिया है कि आनंद मोहन की रिहाई संभव नहीं है क्योंकि वो एक डीएम के हत्या के दोषी हैं, इसलिए उन्हें परिहार (Expiation) नहीं दिया जा सकता है. राज्य सरकार के इस रुख से स्पष्ट है कि बाहुबली नेता को अभी में जेल में ही रहना होगा. दरअसल, बिहार विधानसभा में ललित यादव और चेतन आनंद ने  कई सदस्यों के साथ मिलकर इस मुद्दे पर सबका ध्यान आकर्षित करवाया था. सभी ने राज्य के विभिन्न जिलों में 14 वर्ष से ज्यादा की सजा काट चुके कैदियों को परिहार परिषद के द्वारा समय पर निर्णय नहीं लेने का मामला उठाया था.

बता दें कि राजद विधायक चेतन आनंद के पिता व पूर्व बाहुबली सांसद आनंद मोहन ने 14 साल की सजा काट ली है, लेकिन अभी भी उनको रिहा नहीं किया गया है. आनंद मोहन के बेटे चेतन आनंद ने बिहार सरकार से सवाल पूछा है कि सजा से छह माह ज्यादा जेल में काट चुके आनंद मोहन को क्यों नहीं रिहा किया जा रहा.

बिहार सरकार के मंत्री विजेंद्र यादव ने दिया जवाब 
प्रभारी गृहमंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव ने बताया कि आजीवन कारावास पाए बंदियों को छोड़ने के मानदंड तय हैं. जेल से छोड़ा जाना उम्रकैद के दोषियों का अधिकार नहीं है. आइएएस की हत्या के मामले में आनंद मोहन दोषी हैं, इसलिए उन्हें परिहार नहीं दिया जा सकता. बताया जा रहा है कि अपने पिता की रिहाई के लिए चेतन आनंद अब आगे आंदोलन का रास्ता अपना सकते हैं. वहीं, इस मामले पर राजद भी चेतन आनंद के साथ पूरी ताकत के साथ खड़ी दिख रही है.

गौरतलब है कि गोपालगंज के पूर्व डीएम जी. कृष्णैया की हत्या में लोअर कोर्ट ने आनंद मोहन को फांसी की सजा सुनाई थी. लोअर कोर्ट के फैसले को हाई कोर्ट ने उम्रकैद में बदल दिया था. हालांकि पूर्व सांसद आनंद मोहन ने हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी, लेकिन बाहुबली नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली. सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के बाद हाई कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा था.

Tags: Bihar News, Jdu, RJD

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर