मुजफ्फरपुर कांड के बाद सतर्क हुई पुलिस, राजीव नगर शेल्टर होम में छापेमारी

मुजफ्फरपुर कांड के बाद अतिरिक्त सतर्कता बरत रही पटना पुलिस ने गड़बड़ियों की शिकायत मिलने के बाद शुक्रवार की दोपहर राजीव नगर के एक शेल्टर होम में छापेमारी की.

News18Hindi
Updated: August 10, 2018, 3:08 PM IST
News18Hindi
Updated: August 10, 2018, 3:08 PM IST
बिहार में राजीव नगर, पटना स्थित एक शेल्टर होम में पुलिस ने रेड डाली. इस शेल्टर होम के बारे में पुलिस को कुछ संदिग्ध सूचना मिली थी.

मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड के बाद अतिरिक्त सतर्कता बरत रही पटना पुलिस ने गड़बड़ियों की शिकायत मिलने के बाद शुक्रवार की दोपहर राजीव नगर के एक शेल्टर होम में छापेमारी की. शेल्टर होम के पास रहने वाले एक व्यक्ति ने वहां रहनेवाली कुछ लड़कियों के गायब होने की शिकायत पुलिस हेल्पलाइन पर की थी.

पुलिस ने लगभग दो घंटे तक वहां के कर्मचारियों से पूछताछ की. इस दौरान पता चला कि यहां रहने वाली चार लड़कियां अपनी मर्जी से कहीं बाहर निकल गईं थी, लेकिन वे सभी वापस आ चुकी हैं. पुलिस ने शेल्टर होम के भीतर मौजूद सुविधाओं का भी जायजा लिया और संचालकों को व्यवस्था बेहतर बनाने के निर्देश दिए.

समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव अतुल कुमार ने गुरुवार को ही सभी जिलों के बाल संरक्षण अधिकारियों और समाज कल्याण के सहायक निदेशकों के साथ हाई लेवल मीटिंग कर शेल्टर होम्स के औचक निरीक्षण करने का निर्देश दिया था.

शुक्रवार को ही राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग की एक टीम बिहार पहुंची है, जो कुछ जिलों में शेल्टर होम्स का जायजा लेगी. इस सिलसिले में टीम के तीन सदस्य मुजफ्फरपुर के दौरे पर हैं जहां के बालिका गृह में हुए रेप कांड ने पूरे देश में खलबली मचा दी है.

इस मामले में में जब सुरक्षाकर्मियों में न्यूज18 की टीम ने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि हमें सुरक्षा कारणों से हैं, हमें यह आदेश दिया गया है कि किसी को अंदर न आने दिया जाए. शेल्टर होम के एक कर्मचारी ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि शेल्टर होम का एक जंगला टूटा हुआ है. पुलिस घटना की जांच करने आई है.

बता दें टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंस (टीआईएसएस) की ऑडिट की 15 मार्च को बिहार सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि कैसे  मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में छोटी-छोटी बच्चियों का यौन शोषण किया जाता रहा है.

इस मामले में विपक्ष लगातार सीबीआई जांच की मांग कर रहा था. जिसके बाद राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी. 28 जुलाई को सीबीआई की टीम ने मामले की जांच शुरू कर दी. इस हाई प्रोफाइल केस में ब्रजेश ठाकुर समेत कई आरोपी जेल में है.

ये भी पढ़ें-

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केसः मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर को रिमांड पर लेगी सीबीआई


बालिका गृह केसः जब्त होने के डर से ब्रजेश ठाकुर के बेटे ने बेची महंगी ज़मीन

पेशी के वक्त हंसते दिख रहे ब्रजेश ठाकुर की बीमारियों पर सीबीआई को शक
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर