लाइव टीवी

राहुल कुमार को रालोसपा में मिली राष्‍ट्रीय महासचिव की अहम जिम्‍मेदारी

News18 Bihar
Updated: January 16, 2020, 5:55 PM IST
राहुल कुमार को रालोसपा में मिली राष्‍ट्रीय महासचिव की अहम जिम्‍मेदारी
रालोसपा के नवनिर्वाचित राष्‍ट्रीय महासचिव राहुल कुमार 2004-2005 के दिल्ली सीपीआई के राज्य परिषद सदस्य रह चुके हैं.

2001 से 2004 के बीच छात्र संगठन एआईएसएफ (AISF) के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके राहुल कुमार (Rahul Kumar) बीते दो साल से रालोसपा (RLSP) में पर्दे के पीछे से काफी सक्रिय थे.

  • Share this:
पटना (Patna). पत्रकार (Journalist) और राजनीतिक कमेंटेटर (Political Commentator) राहुल कुमार (Rahul Kumar) को रालोसपा (RLSP) का राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया है. यह घोषणा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने पटना (Patna) में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दी. राजनीतिक समसामयिक विषयों पर अच्छी पकड़ रखने वाले राहुल लंबे समय तक पत्रकारिता जगत में रह चुके हैं. देश के नामी अखबरों में एक दशक तक काम कर चुके राहुल कुमार एक राजनीतिक परिवार से आते हैं. राहुल को अपनी केंद्रीय टीम में शामिल कर उपेन्द्र कुशवाहा युवाओं को आगे बढ़ाने की रणनीति पर काम करते दिख रहे हैं.

 

गौरतलब है कि राहुल पत्रकारिता में लंबी पारी खेलने का बाद 2018 में पटना के कृष्ण मेमोरियल हॉल में धानुक एकता मंच के जरिए धानुक और कुर्मियों की राजनीति में बड़ा दखल देने का प्रयास किया. समझा जा रहा है कि रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा रणनीतिक तौर पर कुर्मी समाज में अपनी पैठ बनाने के लिए युवाओं को प्रमुखता दे रहे हैं. गौरतलब है कि राहुल पिछले दो साल से रालोसपा में पर्दे के पीछे से काफी सक्रिय थे और कई मौकों पर रणनीतिक जिम्मेदारी भी संभाल रहे थे. हाल ही में पार्टी के सक्रिय सदस्यता लेकर अपनी राजनीतिक पारी का आगाज करने की घोषणा कर चुके थे.

गौरतलब है कि अतीत में राहुल कुमार भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े रहे है. वे दिल्ली में 2001 से 2004 के बीच छात्र संगठन एआईएसएफ के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं. 2004-2005 में दिल्ली सीपीआई के राज्य परिषद सदस्य रह चुके हैं. हालांकि इसके बाद वे सक्रिय राजनीति से किनारा करते हुए 2006 से 2014 तक विभिन्न मीडिया संस्थानों में योगदान करते रहे. 2014 में वे अपने प्रदेश बिहार में शिक्षा के क्षेत्र में सक्रिय हो गए. राहुल कुमार को पार्टी संगठन में बड़ी जिम्मेदारी मिलना पार्टी को नए आयाम देने की कोशिश के तौर भी देखा जा रहा है.

माना जा रहा है कि राहुल के सक्रिय होने से पार्टी को न सिर्फ सांगठनिक तौर पर मदद मिलेगी, बल्कि पार्टी से युवाओं को भी जोड़ने में मदद मिलेगी. ऐसे समय में जब उपेन्द्र कुशवाहा बिहार में शिक्षा सुधार को लेकर लगातार आंदोलन चला रहे हैं, तब राहुल जैसे प्रोग्रेसिव और जुझारू युवा को अहम पद देना उनके आक्रामक रणनीति की ओर इशारा करता है. आगामी 24 जनवरी को शिक्षा और बेरोजगारी को लेकर मानव कतार लगाने वाले हैं.

वहीं, अपनी नई जिम्‍मेदारी को लेकर राहुल कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने मुझे बहुत बड़ी जिम्मेदारी दी है. मैं न सिर्फ उनका बहुत आभारी हूँ, बल्कि उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने का प्रयास करूंगा. पार्टी को सांगठनिक और राजनीतिक तौर पर नई ऊंचाई पर ले जाना हमारा मकसद होगा.

यह भी पढ़ें: बोले RJD विधायक- वोट की खातिर प्रतिरोध यात्रा कर रहे हैं तेजस्वी यादव
बिहार: एक बार फिर बोले अमित शाह- NDA नीतीश के नेतृत्‍व में ही लड़ेगा चुनाव
क्या सीमांचल में असदुद्दीन ओवैसी के बढ़ते कद से 'खौफजदा' है लालू की RJD?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 5:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर