आरा: बाइक सवार बदमाशों ने दिनदहाड़े युवक पर की ताबड़तोड़ फायरिंग, मची अफरातफरी

फायरिंग में घायल को अस्पताल में इलाज के लिए लेकर जाते परिजन.
फायरिंग में घायल को अस्पताल में इलाज के लिए लेकर जाते परिजन.

बिहार (Bihar) में विधानसभा चुनाव (Assembly elections) नजदीक हैं, ऐसे में राज्य में आपराधिक गतिविधियां बढ़ रही हैं. बदमाशों ने वीआईपी रोड पर दिन-दहाड़े एक युवक पर फायरिंग (Firing) कर दी, जिसे इलाज (Treatment) के लिए अस्पताल (Hospital) में भर्ती कराया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 4:40 PM IST
  • Share this:
आरा. बिहार (Bihar) में विधानसभा चुनाव (Assembly elections) नजदीक है और ऐसे में राज्य में आपराधिक गतिविधियां रुकने का नाम नहीं ले रही हैं. आरा में आज नकाबपोश अपराधियों ने दिनदहाड़े एक युवक पर ताबड़तोड़ फायरिंग (Firing) की और भाग फरार हो गये. घटना शहर के वीवीआईपी इलाके की है. शहर में अपराधी (Criminals) इतने बेखौफ हैं कि दिनदहाड़े नवादा थाना के रेडक्रॉस के पास युवक पर गोलियां बरसा दी और फरार हो गये.

दिनदहाड़े भीड़भाड़ वाले इलाके में घटी इस घटना से मौके पर अफरातफरी मच गई और लोग इधर-उधर भागने लगे. जब तक लोगों को कुछ समझ आता बाइक सवार अपराधी आंखों से ओझल हो चुके थे. जख्मी युवक का नाम मो. शाहीद बताया जा रहा है जो शहर के मौलाबाग स्थित ईदगाह का रहने वाला है. घटना के बाद आनन- फानन में जख्मी युवक को आरा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया.

सोशल मीडिया पर छाए बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडे, 'रॉबिनहुड अवतार' वाला गाना Viral



यहां युवक ही हालत गंभीर बनी हुई है. जख्मी युवक मो. शाहीद के मुताबिक वो बाइक रिपेयरिंग का काम करता है जो घटना के वक्त रेड क्रॉस के पास बाइक रिपेयर कर रहा था, तभी पीछे से बाइक पर आये दो नकाबपोश अपराधियों ने उस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं. सदर अस्पताल के डॉक्टर के मुताबिक युवक के दाएं-बांह कूल्हे में गोली लगी है, जिसे निकाल दिया गया है. घटना के बाद आरा सदर एसडीपीओ पंकज रावत जांच के लिए सदर अस्पताल पहुंचे और जख्मी युवक के परिजनों से बातचीत कर घटना की जानकारी ली. वहीं एसडीपीओ ने घटना के बारे में फिलहाल कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया है.
सुशासन का दावा करने वाले बिहार में इन दिनों आपराधी बेखौफ हैं, उनको पुलिस और प्रशासन का कोई डर नहीं है. दो-चार दिन में बिहार में चुनावों के तारीखों की घोषणा भी हो सकती है. ऐसे में राज्य में अपराधियों के बुलंद हौंसलों और उनकी वारदातों से आम जनता के दिल में डर है. बिहार में अपराध भी एक चुनावी मुद्दा बन सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज