लाइव टीवी

...जब बारात लेकर दुल्हन पहुंची दूल्हे के घर तो लोग रह गये 'हक्के बक्के'

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: May 22, 2017, 4:27 PM IST
...जब बारात लेकर दुल्हन पहुंची दूल्हे के घर तो लोग रह गये 'हक्के बक्के'
बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंची दुल्हन (ETV PIC.)

आजतक आपने सुना और देखा होगा कि दूल्हे दुल्हन के घर बारात लेकर पहुंचते हैं लेकिन नवादा में शनिवार को दुल्हन खुद सजधज कर बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंचीं. दरवाजे पर बारात लेकर पहुंची दुल्हन को दूल्हे ने गुलदस्ता देकर स्वागत किया.

  • Share this:
बिहार के नवादा में एक शादी की चर्चा लोगों के जुबान पर है. आजतक आपने सुना और देखा होगा कि दूल्हे दुल्हन के घर बारात लेकर पहुंचते हैं लेकिन नवादा में दुल्हन खुद सजधज कर बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंच गई. दरवाजे पर बारात लेकर पहुंची दुल्हन को दूल्हे ने गुलदस्ता देकर स्वागत किया.

नवादा शहर के बुध सेवा नगर इलाके में राष्ट्रपति पदक विजेता डॉ सुमन सौरभ और राजेंद्र प्रसाद के पुत्र अभिषेक की शादी बिजुबीघा निवासी रंजीत प्रसाद की बेटी रचना से शनिवार को संपन्न हुई. महिलाओं को सम्मान देने के लिए अपने बेटे की नायाब शादी कर सौरव सुमन ने पूरे समाज के लिए मिसाल पेश की है.

डॉक्टर सुमन सौरभ ने कहा कि जिस मुद्दे को लेकर जिसने उन्हें समाज में एक पहचान मिली, उसी का ख्याल रखते हुए उन्होंने इस अनोखी शादी का आयोजन किया. उनकी इच्छा थी कि बहू खुद उनके घर बारात लेकर पहुंचे ताकि लोगों की महिलाओं के प्रति सोच बदले.

साथ में दूल्हा-दुल्हन


समाजसेवी उमेश सिंह ने कहा कि वो लोग बौद्ध धर्म से जुड़े हैं और बौद्ध धर्म में हमेशा समानता की बात कही जाती है. इसलिए समान अधिकार देने के लिए उन्होंने यह अनोखी शादी का आयोजन किया.

उन्होंने कहा कि शादी पूरी तरह से अर्जक पद्धति से हुआ. ना कोई पंडित और ना कोई भगवान की प्रतिमा. अर्जक संघ द्वारा की गयी यह शादी इलाके के लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नवादा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 22, 2017, 4:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...