लाइव टीवी

वाह रे डॉक्‍टर! टूटा था बायां पैर, दाएं में कर दिया प्‍लास्टर

Hindustan
Updated: December 25, 2014, 10:03 AM IST
वाह रे डॉक्‍टर! टूटा था बायां पैर, दाएं में कर दिया प्‍लास्टर
पैर टूटा बायां और डॉक्टरों ने कर दिया दाएं पैर का प्लास्टर। चौंकिए मत! यह किसी फिल्म का दृश्य नहीं है, बल्कि यह करनामा सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने कर दिखाया है। डॉक्टर की इस लापरवाही से छह माह की बच्ची शिल्पी के दर्द एक दिन और बढ़ गया। हालांकि मामला प्रकाश में आने के बाद अस्पताल प्रबंधन मामले पर पर्दा डालने में जुट गया और आनन-फानन में बच्ची के टूटे पैर का प्लास्टर कर दिया गया।

पैर टूटा बायां और डॉक्टरों ने कर दिया दाएं पैर का प्लास्टर। चौंकिए मत! यह किसी फिल्म का दृश्य नहीं है, बल्कि यह करनामा सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने कर दिखाया है। डॉक्टर की इस लापरवाही से छह माह की बच्ची शिल्पी के दर्द एक दिन और बढ़ गया। हालांकि मामला प्रकाश में आने के बाद अस्पताल प्रबंधन मामले पर पर्दा डालने में जुट गया और आनन-फानन में बच्ची के टूटे पैर का प्लास्टर कर दिया गया।

  • Hindustan
  • Last Updated: December 25, 2014, 10:03 AM IST
  • Share this:
पैर टूटा बायां और डॉक्टरों ने कर दिया दाएं पैर का प्लास्टर। चौंकिए मत! यह किसी फिल्म का दृश्य नहीं है, बल्कि यह करनामा सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने कर दिखाया है। डॉक्टर की इस लापरवाही से छह माह की बच्ची शिल्पी के दर्द एक दिन और बढ़ गया। हालांकि मामला प्रकाश में आने के बाद अस्पताल प्रबंधन मामले पर पर्दा डालने में जुट गया और आनन-फानन में बच्ची के टूटे पैर का प्लास्टर कर दिया गया।

बड़हरा प्रखण्ड के बभनगांवा गांव निवासी सोनू प्रसाद की छह माह की बेटी शिल्पी का खाट से गिरने के कारण पैर टूट गया। उसे इलाज के लिए मंगलवार को सदर अस्पताल लाया गया। यहां पहले तो उसे बाहर से एक्सरे व ब्लड जांच कराना पड़ा। उसके बाद जब प्लास्टर की बारी आयी तो, डॉक्टर ने बाएं के बदले दाएं पैर पर मोटा प्लास्टर चढ़ा दिया।

चूंकि बच्ची अपना दर्द बता नहीं सकती थी। ऐसे में उसके परिजन घर लेकर चले गए। इधर, प्लास्टर के बावजूद जब बच्ची दर्द कम नहीं हुआ और उसके रोने का सिलसिला जारी रहा, तो परिजनों को कुछ शक हुआ। परिजनों ने जब पैर पर गौर किया, तो पता चला कि दूसरे पैर का प्लास्टर कर दिया गया है।

इसके बाद परिजन बुधवार को एक बार फिर अस्पताल पहुंचे और उपाधीक्षक से शिकायत की। उनकी पहल पर डॉक्टरों ने गलती सुधारते हुए टूट पैर का प्लास्टर कर दिया। उपाधीक्षक जेके सिन्हा ने बताया कि भूल वश ऐसा हो गया है। मामला सामने आने पर बच्ची का सही इलाज कर दिया गया है।

 

(हिंदी हिन्दुस्तान की स्वीकृति से हिटी सिंडिकेशन द्वारा प्रकाशित)

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बक्सर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 25, 2014, 9:44 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर