Bihar Election 2020: बक्सर और ब्रह्मपुर को लेकर अभी तक साफ नहीं हुई तस्वीर, पेंच सुलझाने में छूट रहे BJP के पसीने

बिहार चुनाव के लिए बीजेपी की लिस्ट जारी. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
बिहार चुनाव के लिए बीजेपी की लिस्ट जारी. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Bihar Election 2020: बिहार की बक्सर सीट (Buxar) पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (IPS Gupteshwar Pandey) के चुनाव लड़ने के कयासों के कारण हॉट सीट बनी हुई है लेकिन मुश्किल उनके जेडीयू में जाने से हो रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 11:42 AM IST
  • Share this:
पटना. बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव (Bihar Election 2020 के पहले चरण में जिन 71 सीटों पर वोटिंग होनी है उसमें से अधिकांश के लिए प्रत्याशियों के नाम का ऐलान हो चुका है लेकिन कुछ ऐसी भी सीट हैं जिन पर अभी भी एनडीए खासकर बीजेपी में माथापच्ची चल रही है. ऐसे ही दो सीट बिहार के बक्सर (Buxar) जिले से है जिस पर पूरे इलाके की नजर है. ये दो सीटें इसलिए अहम है क्योंकि इन दोनों में से एक पर नौकरी छोड़कर राजनीति में आने वाले पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे (IPS Gupteshwar Pandey) के चुनाव लड़ने की चर्चा है.

दरअसल बक्सर और ब्रह्मपुर इन दोनों सीटों को लेकर बीजेपी आलाकमान भी मुश्किल में है यही कारण है कि नामांकन के अंतिम 48 घंटे तक भी इन दोनों सीटों से बीजेपी अपने प्रत्याशियों के नाम का ऐलान नहीं कर सकी है. बक्सर से जो चेहरे टिकट पाने की रेस में है उनमें सबसे ऊपर डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे का नाम आता है हालांकि उन्होंने जदयू की सदस्यता ली है ऐसे में बीजेपी के खाते में गई ये सीट उनके लिए आसान होती नहीं दिख रही लेकिन ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि अगर वो बीजेपी की सदस्यता लेकर सीट से नामांकन करते हैं तो उनके खाते में यह सीट जा सकती है. इसके अलावा बक्सर से हिमांशु चतुर्वेदी, प्रदीप दूबे और पूर्व विधायक सुखदा पांडेय की बेटी का भी नाम सुर्खियों में है लेकिन अंतिम फैसला बीजेपी आलाकमान को लेना है.

इसी तरह बक्सर से सटे ब्रह्मपुर सीट पर भी सभी की नजरें हैं क्योंकि यहां से भी अभी तक पार्टी ने अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं किया है. इस सीट से बीजेपी के कई चेहरे रेस में है जिनमें बक्सर के होटल व्यवसायी प्रदीप राय के अलावा लोजपा के हुलास पांडेय, बीजेपी के सत्येंद्र कुंवर और संतोष रंजन राय का नाम सामने आया है. इस सीट से दिलमणि देवी के भी चुनाव लड़ने के कयास थे लेकिन वो अभी जेडीयू में हैं और ये सीट बीजेपी के खाते में. बहरहाल इलाके के लोग भी इस बात को लेकर सकते में हैं कि आखिर इन दोनों सीट से बीजेपी किसे अपना चेहरा बनाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज