नीतीश ने लालू को किया फोन, तेजस्वी बोले- महागठबंधन में 'चाचा' के लिए जगह नहीं
Patna News in Hindi

नीतीश ने लालू को किया फोन, तेजस्वी बोले- महागठबंधन में 'चाचा' के लिए जगह नहीं
(फाइल फोटो- नीतीश कुमार, लालू यादव)

बता दें कि चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद अभी हेल्थ चेकअप के लिए छह हफ्ते के लिए जमानत पर बाहर हैं.

  • Share this:
एक अरसे के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पूर्व सहयोगी और राजद सुप्रीमो लालू यादव को याद किया है. सूत्रों के मुताबिक, मुंबई में इलाज के लिए गए लालू यादव से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फोनकर उनकी सेहत का हालचाल पूछा. उनके फोन कॉल के साथ ही चर्चा शुरू हो गई थीं कि वे आरजेडी और जेडीयू दोबारा साथ आ सकते हैं हालांकि लालू के बेटे तेजस्वी यादव ने महागठबंधन में नीतीश की वापसी की अटकलों को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा, 'अब महागठबंधन में चाचा के लिए कोई जगह नहीं है.'

चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव स्वास्थ्यगत कारणों से जमानत पर रिहा हैं और मुंबई के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. रविवार को उनका एक ऑपरेशन भी किया गया था.

सीएम नीतीश द्वारा लालू का हालचाल पूछे जाने पर तेजस्वी यादव ने कहा कि रविवार को उनका (लालू यादव) का फिस्टुला का ऑपरेशन हुआ था, ऐसे में उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए कॉल किया था और कुछ नहीं. अस्पताल में भर्ती होने के 4 महीने बाद आश्चर्यजनक रूप से नीतीश जी को उनके खराब स्वास्थ्य के बारे में पता चला. मैं उम्मीद करता हूं कि वह महसूस करेंगे कि वो बीजेपी/एनडीए मंत्रियों के अस्पताल में लालू जी का हालचाल पूछने वाले अंतिम राजनेता हैं.



बता दें कि चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद अभी हेल्थ चेकअप के लिए छह हफ्ते के लिए जमानत पर बाहर हैं. उनका इलाज मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में किया जा रहा है.
जानकारों का कहना है कि 2015 के विधानसभा चुनाव में लालू यादव ने जातिगत जनगणना और आरक्षण को अपना प्रमुख हथियार बनाया था. जिसमें एनडीए ऐसा उलझा कि महागठबंधन की सरकार बन गई. लेकिन चारा घोटाला मामले में जेल जाने के कारण लालू सक्रिय राजनीति से दूर हो गए हैं. इधर नीतीश कुमार ने चुनावी पिच पर फ्रंट फुट पर आकर बैटिंग करनी शुरू कर दी है.

जन्म से लेकर ग्रेजुएशन की पढ़ाई तक लड़कियों के लिए अनुदान राशि हो या एससी/एसटी हॉस्टल में पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट के लिए अनुदान राशि, नीतीश ने चुनाव के लिए मास्टरस्ट्रोक खेल दिया है. इसके साथ ही नीतीश ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग तेज कर दी है.

यह भी पढ़ें- Bihar Board 10th Result 2018: बिहार बोर्ड 10वीं का रिजल्ट तुरंत देखने के लिए यहां क्लिक करें

बिहार 2019: लालू-माया-लेफ्ट साथ आए तो नीतीश-बीजेपी का क्या होगा?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading