लाइव टीवी

देश का पहला रेलवे स्टेशन जहां मैथिली भाषा में होती है गाड़ियों की अनाउंसमेंट

News18 Bihar
Updated: September 18, 2019, 11:59 AM IST
देश का पहला रेलवे स्टेशन जहां मैथिली भाषा में होती है गाड़ियों की अनाउंसमेंट
दरभंगा को मिथिला की अघोषित राजधानी कही जाती है और इस स्टेशन को भी मधुबनी पेंटिंग से सजाया गया है

दरभंगा रेलवे स्टेशन पर शुरू हुई इस नई व्यवस्था के तहत मैथिली भाषा में उदघोषणा होने से लोगों को अपने ट्रेनों की सही जानकारी मिल जाती है और वो आसानी से ट्रेन पर सवार होक गंतव्य स्थान को प्रस्थान कर जाते हैं.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 18, 2019, 11:59 AM IST
  • Share this:
मैथिली भाषा (Mithila Language) हमेशा से अपनी मिठास के लिए जानी जाती है. यही कारण है कि इसे बढ़ावा देने के लिए इस भाषा में न केवल गीत गाए जाते हैं बल्कि सिनेमा भी बनाये जाते हैं. मैथिली भाषा के प्रचलन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अब इसका प्रचलन रेलवे (Railway) द्वारा भी किया जा रहा है. मिथिला की अघोषित राजधानी कही जानेवाली दरभंगा (Darbhanga Railway Station) के रेलवे स्टेशन पर अब इस भाषा को बढ़ावा देने के लिए विशेष शुरूआत की गई है.

लोगों का रास आ रहा नया प्रयोग

इस स्टेशन पर हिन्दी, अंग्रेजी भाषा के साथ-साथ मैथिली में भी उदघोषणा शुरू की गई है. दरभंगा भारत का पहला रेलवे स्टेशन है जहां मैथिली भाषा में अनाउंसमेंट किया जा रहा है. मिथिलांचल के दरभंगा स्टेशन पर मैथिली भाषा में रेलवे द्वारा किया गया यह प्रयोग न सिर्फ आम लोगों को भा रहा है बल्कि गांव घर के लोगों के लिए भी वरदान साबित हो रहा है, खास कर वैसे लोगों को इसका जबर्दस्त फायदा मिल रहा है जो सिर्फ अपनी लोकल भाषा को ही आसानी से समझ सकते हैं.

पहले पेंटिंग और अब अनाउंसमेंट

मैथिली भाषा में उदघोषणा होने से उन्हें अपने ट्रेनों की सही जानकारी मिल जाती है और वो आसानी से ट्रेन पर सवार होक गंतव्य स्थान को प्रस्थान कर जाते हैं. इससे पहले दरभंगा स्टेशन पर कई मैथिला पेंटिंग लगा कर स्टेशन को सजाया गया था. इसके अलावा बिहार संपर्क क्रांति के सभी कोचों को भी मिथिला पेंटिंग कर सजाया सांवरा गया था. अब मिथिला के इस स्टेशन पर मैथिलि में उदघोषणा से लोग काफी खुश हैं उनकी मानें तो ये हमारी मातृभाषा है और रेलवे के इस प्रयोग से दूर दराज़ और दूसरे प्रदेश से आनेवाले लोगों को भी मैथिली भाषा सुनने और समझने का मौका मिलेगा बल्कि इसका प्रचार और प्रसार भी होगा.

दरभंगा स्टेशन पर मौजूद मैथिली भाषा के अनाउंसर


खुश हैं लोगस्टेशन की उदघोषिका सोनी झा ने भी बताया कि वो हिंदी, अंग्रेजी और मैथिली भाषा में लोगों को ट्रेन आने और जाने की उदघोषणा करती हैं. यहां के लोग मैथिली भाषा को ज्यादा बारीकी से और जल्दी समझ जाते हैं. उनको अपनी भाषा में यात्रियों को समझने में ज्यादा कठिनाई नहीं आती और लोग भी उनसे मैथिली में ही ट्रेन की स्थिति जानने की इच्छा रखते हैं. इस मामले में जब रेलवे के अधिकारियों का पक्ष लेने की कोशिश की गई तो किसी भी अधिकारी ने कैमरे पर कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया.

रिपोर्ट- विपिन कुमार दास

ये भी पढ़ें- BPSC का इंटरव्यू क्लियर कराने के लिए बीजेपी MLC ने मांगे 30 लाख रुपए, केस दर्ज

ये भी पढ़ें- पटना पुलिस लाइन में बैरक पर गिरा विशालकाय पेड़, नौ जख्मी, तीन की हालत नाजुक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दरभंगा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 11:54 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर