बिहार चुनाव: 'जिन्नावादी नेता' को कांग्रेस से टिकट मिलने पर सियासी बवाल, BJP-JDU ने कही यह बात

जिन्ना की तारीफ करने वाले मशकूर अहमद उस्मानी को कांग्रेस ने दिया टिकट.
जिन्ना की तारीफ करने वाले मशकूर अहमद उस्मानी को कांग्रेस ने दिया टिकट.

मशकूर अहमद उस्मानी (Mashkur Ahmed Usmani) ने पहले JDU से टिकट के लिए नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) से संपर्क साधा था, पर नीतीश कुमार के साफ मना कर देने के बाद बात नहीं बनी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2020, 10:28 AM IST
  • Share this:
पटना. कांग्रेस की ओर से जाले से मशकूर अहमद उस्मानी (Mashkur Ahmed Usmani) को टिकट दिए जाने के बाद बिहार की सियासत में हंगामा मचा हुआ है. उस्मानी पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (Aligarh Muslim University) के छात्रसंघ अध्यक्ष रहते हुए जिन्ना की तस्वीर कमरे के अंदर लगाने का आरोप लगा था. जिन्ना का महिमामंडन करने पर काफी हंगामा मचा था. दरभंगा के जाले से टिकट मिलने के बाद बीजेपी नेता प्रेम रंजन पटेल (BJP leader Prem Ranjan Patel) ने हमला करते हुए कहा कि कंग्रेस को कभी देश की एकता और अखंडता से मतलब नहीं. जिसने देश को विभाजन करने का काम किया उसका समर्थन करने वाले को टिकट दिया गया है. जदयू प्रवक्ता अरविंद निषाद (JDU Spokesman Arvind Nishad) ने कहा कि कोई भी पार्टी टिकट देते समय उम्मीदवार के चरित्र को जरूर देखती है पर कांग्रेस हमेशा ऐसे ही विवादित लोगों को टिकट देती है.

हालांकि, कांग्रेस अपने उम्मीदवार के बचाव में उतर आई है. पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि जब कोई मुद्दा नहीं मिलता तो बीजेपी ऐसी ही बात करती है. कांग्रेस नेता हरखू झा ने बीजेपी और जेडीयू के बयानों का कड़े शब्दों में पलटवार करते हुए कहा कि बीजेपी को पहके अपने गिरेबान में झांकना चाहिए. जो पार्टी गांधी के हत्यारे गोडसे के महिमामंडन करती है, उसे सदन भेजती है वो आज सवाल कैसे खड़े कर रही है. उस्मानी ने कभी जिन्ना का महिमामंडन नहीं किया है.

राष्ट्रीय जनता दल ने इस प्रकरण से पल्ला झाड़ लिया है. पार्टी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि कांग्रेस के जाले उम्मीदवार के बारे में मुझे जानकारी नहीं. कांग्रेस ने सोच-समझकर उम्मीदवार तय किया होगा. हमारे लिए आज मुद्दा जिन्ना नहीं है. हमारे लिए मुद्दा बेरोजगारी, गरीबी, बिहार में किसानों की समस्या है.



बता दें कि कांग्रेस से टिकट पाए दरभंगा जिले के रहने वाले मशकूर अहमद रहमानी अलीगढ़ मुस्लिम विश्विद्यालय में भारत विभाजन के लिए जिम्मेदार रहे मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर लगाने मामले में चर्चित हुए थे. तब वह वर्ष 2017 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में छात्रसंघ के चुनाव जीतकर अध्यक्ष बने थे.
दूसरी बार तब चर्चा का विषय बने जब अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में छात्रसंघ के हॉल में तस्वीर टांगे होने के कारण बीजेपी सांसद ने वीसी को पत्र लिखा था. तस्वीर हटाने की मांग को लेकर हिन्दू वाहिनी के कार्यकर्ताओ का AMU में घुसने के बाद हंगामा शुरू हुआ था, जिसके बाद लाठीचार्ज करना पड़ा था. उस समय के छात्रसंघ के अध्यक्ष उस्मानी ने बाद में कहा था कि हम जिन्ना के विचारधारा का विरोध करते हैं, पर जिन्ना देश के ऐतिहासिक तथ्य हैं यह भी सही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज