Darbhanga Assembly Seat Result: दरभंगा से बीजेपी उम्मीदवार संजय सरावगी जीते, RJD पत्याशी को हराया

सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो

Bihar Vidhan Sabha Chunav Result 2020 Live: दरभंगा विधानसभा (Darbhanga Assembly) सीट पर बीजेपी (BJP) के उम्मीदवार संजय सरावगी ने राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के उम्मीदवार को पीछे छोड़ दिया है.

  • Share this:
दरभंगा. दरभंगा विधानसभा (Darbhanga Assembly) सीट पर बीजेपी (BJP) के उम्मीदवार संजय सरावगी चुनाव जीत गये हैं. बीजेपी उम्मीदवार राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के उम्मीदवार को पीछे छोड़ दिया है. बिहार के दरभंगा जिले की दरभंगा विधानसभा सीट (Darbhanga Assembly Seat) पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) का दबदबा कायम है.

Bihar Chunav Result Live: बिहार की बाज़ी जीत रही बीजेपी? चुनाव के शुरुआती नतीजों ने किया गदगद

2005 से दरभंगा विधानसभा सीट पर भाजपा का परचम कायम



बिहार विधानसभा चुनाव के लिहाज से दरभंगा विधानसभा सीट पर 2005 से भारतीय जनता पार्टी का दबदबा कायम है. दरभंगा विधानसभा सीट पर फरवरी 2005 और फिर अक्टूबर 2005 में हुए विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के संजय सरावगी जीत हासिल की थी. जबकि 2010 में भी उन्‍हें जीत मिली और इस बार उन्‍होंने 26000 वोटों के बड़े अंतर से राजद के उम्मीदवार को हराया था. यही नहीं, 2015 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के संजय सरावगी ने 7000 वोटों के मार्जिन से महागठबंधन के उम्मीदवार और पूर्व महापौर ओम प्रकाश खेरिया को हराया था. आपको बता दें कि 2000 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर राजद ने जीत हासिल की थी.
ये भी पढ़ें- अलीनगर विधानसभा सीट: तीसरी बार 'जीत' के लिए मैदान में उतरेंगे RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी, एनडीए भी दिखाएगा दम

पिछले चुनाव में पड़े थे 57.9 फीसदी वोट
दरभंगा विधानसभा सीट पर कुल 2,82,045 मतदाता हैं, जिसमें ड़ेढ लाख से अधिक (1,51,474) पुरुष और 1,30,557 महिलाएं शामिल हैं. 2015 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर कुल 57.9 फीसदी मतदाताओं ने अपने मत का इस्तेमाल किया था. यही नहीं, इस सीट पर अधिक फीसदी मतदान भाजपा की जीत की गारंटी माना जाता है.

दरभंगा विधानसभा सीट पर ये होंगे चुनावी मुद्दे
दरभंगा विधानसभा क्षेत्र फिलहाल बाढ़ से प्रभावित है और बाढ़ पीड़ित लोगों का वोट बटोरने के लिए सभी राजनीतिक दल बाढ़ को चुनावी मुद्दा बन सकते हैं. इसके अलावा रोजगार, शिक्षा और कानून व्‍यवस्‍था आदि मुद्दे भी इस चुनाव में हावी रह सकते हैं. जबकि कोरोना काल में देश के दूसरे शहरों से अपने अपने गांव लौट लोगों के सामने सामने रोजी रोटी का बड़ा सवाल है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज