Gowda Bauram Muzaffarpur Assembly Election Result : गौडा बौराम से वीआईपी की स्वर्ण सिंह जीतीं

Gowda Bauram Seat Result: गौरा बौरम विधानसभा सीट पर विकासशील इंसान पार्टी की उम्मीदवार स्वर्णा सिंह चुनाव जीत गई हैं. उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के प्रत्य़ाशी फजल अली खाँ को हराया है.
Gowda Bauram Seat Result: गौरा बौरम विधानसभा सीट पर विकासशील इंसान पार्टी की उम्मीदवार स्वर्णा सिंह चुनाव जीत गई हैं. उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के प्रत्य़ाशी फजल अली खाँ को हराया है.

Gowda Bauram Seat Result: गौरा बौरम विधानसभा सीट पर विकासशील इंसान पार्टी की उम्मीदवार स्वर्णा सिंह चुनाव जीत गई हैं. उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के प्रत्य़ाशी फजल अली खाँ को हराया है.

  • Share this:
दरभंगा. गौरा बौरम विधानसभा सीट पर विकासशील इंसान पार्टी की उम्मीदवार स्वर्णा सिंह चुनाव जीत गई हैं. हालांकि देखना यह है कि सहनी गौरा बौरम क्षेत्र जो उनका ससुराल है, वहीं रहेंगे या फिर अपने घर बहादुरपुर विधानसभा में वापसी करते हुए चुनाव लड़ेंगे या फिर टिकट से वंचित हो जाएंगे.

ऐसा रहा है चुनावी हाल
इजहार अहमद ने वर्ष 2010 के चुनाव में राजद के कद्दावर नेता और सूबे के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. महावीर प्रसाद को हराया था. उस समय डॉ. इजहार अहमद को 32258 और प्रसाद को 22656 वोट मिले थे. जबकि वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में मदन सहनी (जदयू) 51403 मत पाकर चुनाव जीते थे और उन्‍होंने लोजपा के विनोद सहनी (37341) को मात दी थी.

बिहार चुनाव नतीजे LIVE: फिर से बिहार में वापसी करती दिख रही NDA, पूरे नतीजे आने में हो सकती है देरी
स्थानीय प्रत्याशी की मांग


चुनाव को लेकर अब सब अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं, ऐसे में बिहार सरकार के मंत्री मदन सहनी पर बाहरी उम्मीदवार होने की वजह से स्थानीय उम्मीदवार की मांग जोर पकड़ने लगी है. इस दौरान राजद पार्टी के समाजसेवी सजंय कुंजर सिंह उर्फ पप्पू सिंह ने कोरोना काल के साथ बाढ़ में जनता के बीच रह कर अपनी दावेदारी को मजबूत किया है. इसके अलावा लोजपा से प्रभकार ठाकुर भी अपनी दावेदारी को लेकर क्षेत्र में घूम कर लोगों के बीच अपनी उपस्थिति दिखा रहे हैं. साथ ही तीसरे उम्मीदवार भाजपा के राजीव चौधरी भी अपनी दावेदारी बनाये हुए हैं. वहीं, इस सीट पर 228697 मतदाता हैं.

स्थानीय मुद्दा रहेगा हावी
ये विधानसभा पूर्ण रूप से बाढ़ प्रभावित इलाका है, जहां हर साल बाढ़ के पानी से तबाही होती है. इसके अलावा इस क्षेत्र में सबसे बड़ी समस्या सड़क भी है और ज्यादातर सड़कों का हाल बेहाल है जिसको लेकर इस क्षेत्र में बड़े बड़े आंदोलन भी जनता ने किए हैं. जबकि स्वास्थ शिक्षा से कटकर बुनियादी जरूरतों की कमी को झेल रहा है ये क्षेत्र.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज