Bahadurpur Assembly Result: बहादुरपुर सीट से JDU के मदन सहनी RJD के रमेश चौधरी को हराया

बीजेपी आज जारी कर सकती है उम्मीदवारों की पहली लिस्ट.. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
बीजेपी आज जारी कर सकती है उम्मीदवारों की पहली लिस्ट.. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Baruraj Assembly Election Result: बरुराज विधानसभा सीट (Baruraj Assembly Seat) पर बीजेपी के उम्मीदवार अरुण कुमार सिंह ने आरजेडी के नंद कुमार राय को हरा दिया है.

  • Share this:
दरभंगा. बिहार विधानसभा चुनावों (Bihar Assembly Elections) में बहादुरपुर सीट से JDU के मदन सहनी ने RJD के रमेश चौधरी को हराया दिया है, सहनी ने रमेश चौधरी को 2629 वोटों से हराया है. इस सीट पर लड़ाई महागठबंधन और एनडीए (जदयू-बीजेपी) के बीच चल रही थी.

इस बार भी रहेगी कांटे की टक्‍कर
बहादुरपुर विधानसभा सीट पर 2010 के चुनाव में जेडीयू के उम्मीदवार मदन साहनी ने जीत हासिल की थी. साहनी ने अपने विरोधी और राजद उम्‍मीदवार हरिनंदन यादव को हराया था. इस चुनाव में मदन साहनी को 27,320 वोट मिले थे.जबकि राजद उम्‍मीदवार को 26,677 वोट के साथ संतोष करना पड़ा था. बहादुरपुर विधानसभा सीट पर कांग्रेस भी वजूद रखती है और कांग्रेस के मुरारी मोहन झा तीसरे स्थान पर रहे थे. वहीं, कुल 20 उम्मीदवारों ने चुनाव में किस्मत आजमाई थी.

बिहार चुनाव नतीजे LIVE: फिर से बिहार में वापसी करती दिख रही NDA, पूरे नतीजे आने में हो सकती है देरी
अगर बात 2015 यानी पिछले विधानसभा चुनाव की करें तो इस बार राजद के हाथ बाजी लगी. राजद ने भोला यादव ने 71,547 वोट के साथ भारतीय जनता पार्टी के हरि साहनी को हराया था. इस चुनाव में भाजपा के हरि सहानी को 54,558 वोट मिले थे. जबकि सीपीआई (MARXIST) के श्याम भारती तीसरे स्थान पर रहे थे. वहीं, चुनाव में 15 लोगों ने अपनी किस्‍मत आजमाई थी.



बहरहाल, 2,68,086 मतदाताओं वाली इस सीट पर इस बार महागठबंधन और बिहार एनडीए के बीच जोरदार मुकाबला देखने को मिल सकता है. इस विधानसभा चुनाव सीट पर 1,43,968 पुरुष और 1,24,114 महिलाएं मतदाता हैं. वहीं, 2015 के विधानसभा चुनाव में लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्‍सा लिया था और 58.1 फीसदी वोटिंग हुई थी.

बहादुरपुर विधानसभा सीट ये होगा चुनावी मुद्दा
दरभंगा जिले की बहादुरपुर विधानसभा सीट पर किसानों के लिए बड़ी समस्या हैं, जो कि इस बार चुनावी मुद्दा बन सकती हैं. इसके अलावा बेरोजगारी, कानून व्‍यवस्‍था, स्वास्थ्य सेवाएं और सड़कों का खस्‍ताहाल होना भी अहम परेशानी है और यह बात सभी राजनीतिक दलों को पेरशानी में डाल सकती है. आखिर हार और जीत तय करने वाले मतदाता सवाल तो जरूर पूछेंगे. इस सीट पर दूसरी बार चुनाव जीतना हर किसी के लिए बड़ी चुनौती रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज