Keoti Election Result: दरभंगा के केवटी सीट से भाजपा की जीत, राजद के अब्दुल बारी सिद्दिकी हारे

केवटी विधानसभा सीट से अब्दुल बारी सिद्धिकी चुनाव हार गये हैं.
केवटी विधानसभा सीट से अब्दुल बारी सिद्धिकी चुनाव हार गये हैं.

Bihar Assembly Election 2020: केवटी विधानसभा सीट (Keoti Assembly Seat) पर भाजपा प्रत्याशी मुरारी मोहन झा (Murari Mohan Jha) ने जीत दर्ज की है. जीत का आंकड़ा लगभग 8 हजार है. हालांकि पिछली बार 2015 में आरजेडी सिर्फ 49 वोट से हारी थी.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: November 10, 2020, 11:08 PM IST
  • Share this:
दरभंगा. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) के केवटी (Keoti Election Result) सीट से भाजपा (BJP) के मुरारी मोहन झा जीत गए हैं. उन्होंने राजद (RJD) के अब्दुल बारी सिद्दिकी को लगभग 8 हजार वोट से हराया.बता दें कि बिहार के दरभंगा जिले की केवटी विधानसभा सीट (Keoti Assembly Seat) पर अब तक जोरदार मुकाबला देखने को मिला है. लेकिन लगातार चौथी बार भाजपा (BJP) ने इस सीट पर जीत दर्ज की है.

क्‍या इस बार भाजपा को टक्‍कर दे पाएगी आरजेडी?
केवटी विधानसभा सीट पर भाजपा का दबदबा रहा है. 2005 में इस सीट पर अशोक कुमार यादव ने जीत हासिल की थी. इसके बाद 2010 में भी भाजपा ने अशोक कुमार यादव पर दांव खेला और इस बार भी उन्‍होंने बाजी अपने नाम कर ली. वहीं, पिछले यानी 2015 विधानसभा चुनाव में इस सीट पर भाजपा और आरजेडी के बीच तगड़ा मुकाबला देखने को मिला था, लेकिन बाजी अंतत: भाजपा के हाथ लगी. इस बार अशोक कुमार यादव को 45791 वोट मिले थे, तो आरजेडी की फराज फातमी (45762) ने वोट पाकर करीब करीब भाजपा की हैट्रिक पर संकट खड़ा कर दिया था. हालांकि अंतिम बाजी अशोक कुमार यादव के हाथ लगी और वह 49 वोट के अंतर से जीतने में सफल रहे थे.

बहरहाल, केवटी विधानसभा में कुल 260012 मतदाता हैं, जिसमें से 141176 पुरुष और 118836 महिलाएं शामिल हैं. जबकि पिछली बार इस सीट कुल 46.75 फीसदी मतदाताओं ने अपने मत का इस्‍तेमाल किया था.
केवटी विधानसभा सीट पर ये हो सकते हैं चुनावी मुद्दे


केवटी विधानसभा सीट पर भाजपा जीत की हैट्रिक लगा चुकी है और इस बार भी उसका ही दबदबा रहने की उम्‍मीद है. जबकि बंद पड़ी रैयाम चीनी मिल और एनएच 105 की बदहाली के अलावा खाद्यान्न आपूर्ति में गड़बड़ी इस बार चुनावी मुद्दे हो सकते हैं. यही नहीं, रोजगार और शिक्षा का मुद्दा भी चुनाव में हावी रह सकता है, जिसे आरजेडी और महागठबंधन पूरी ताकत से उठा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज