पिता को बैठाकर 1200 KM साइकिल चला दरभंगा पहुंची थी ज्योति, चिराग ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, कहा- साहस के लिए मिले पुरस्कार
Darbhanga News in Hindi

पिता को बैठाकर 1200 KM साइकिल चला दरभंगा पहुंची थी ज्योति, चिराग ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, कहा- साहस के लिए मिले पुरस्कार
पिता को साइकिल पर बिठाकर गुड़गांव से दरभंगा लाने वाली ज्योति कुमारी.

रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party of Ram Vilas Paswan) ने उसे 51 हजार रुपये की मदद की बात कही थी. वहीं अब एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) से उसे सम्मानित किए जाने की अपील की है.

  • Share this:
पटना/दरभंगा. अपने पिता को साइकिल की कैरियर पर बैठाकर हरियाणा के गुरुग्राम (Gurugram of Haryana) से 1200 किलोमीटर बिहार के दरभंगा ले आने वाली ज्योति कुमारी की सराहना चारों ओर हो रही है. खासकर जब से अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप (Ivanka Trump) ने उसकी तारीफ की है और तब ऐसे लगता है कि वह बिहार की सियासत का चेहरा भी बनती जा रही है. दरअसल, पहले बिहार सरकार की ओर से उसकी आगे की पढ़ाई का जिम्मा उठाया गया तो सोमवार को आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी (RJD leaders Tejashwi Yadav and Rabri Devi) ने सोमवार को ज्योति कुमारी से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये न सिर्फ बात की बल्कि उनके परिवार को हर तरह से आर्थिक मदद करने का भरोसा भी दिलाया.

इससे पहले रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party of Ram Vilas Paswan) ने उसे 51 हजार रुपये की मदद की बात कही थी. वहीं अब एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) से उसे सम्मानित किए जाने की अपील की है.





इस बात की जानकारी देते हुए चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने अपने ट्वीट पर लिखा, बिहार की बेटी ज्योति जिसकी उम्र महज 15 साल है,जो अपने घायल पिता को अपनी पुरानी साइकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से 1200 KM की दूरी तय कर लाॅकडाउन में अपने घर दरभंगा ले आई. ज्योति के इस साहसिक कार्य के लिए उसको सम्मानित करने के लिए महामहिम राष्ट्रपति को पत्र लिखा है.






चिराग पासवान ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेजे गए पत्र में जो कुछ लिखा है वो इस प्रकार है. 'इस पत्र के माध्यम से आपके संज्ञान में लाना चाहता हूं कि बिहार के दरभंगा जिले के अंतर्गत ग्राम कोठिया चुरहुल्ली, थाना कमतौल, प्रखंड छिंदवाड़ा की रहने वाली बिहार की बेटी ज्योति कुमारी, जिसकी उम्र महज 15 साल है, जो अपने घायल पिता श्री मोहन पासवान को अपनी पुरानी सी साइकिल पर बैठाकर हरियाणा राज्य के गुरुग्राम से दोबारा 100 किलोमीटर की दूरी तय कर लॉकडाउन में अपने घर दरभंगा ले आई.

बिहार के इस छोटे से गांव की ज्योति कुमारी के इस हौसले की चर्चा देस ही नहीं अपितु विदेश में भी हो रही है.  अतः आपसे अनुरोध है कि ज्योति कुमारी के साहसिक कार्य को देखते हुए उनको आने वाली आगामी 26 जनवरी, 2021 के मौके पर राष्ट्रपति पुरस्कार (साहसी पुरस्कार) से सम्मानित करने की कृपा करें.

चिराग पासवान द्वारा राष्ट्रपति को भेजी गई चिट्ठी


बता दें कि ज्योति के इस जज्बे की सराहना भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन ने भी की है. दरअसल फेडरेशन ज्योति के इस कारनामे से आश्चर्यचकित है. भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन ने ज्योति को अगले महीने ट्रायल के लिए दिल्ली बुलाया है.

इसी बात को लेकर मेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald trump) की बेटी इवांका ट्रंप (Ivanka Trump) ने भी ट्वीट कर ज्योति की तारीफ की थी.  इवांका ने अपने ट्वीट में लिखा, '15 साल की ज्योति कुमारी ने अपने जख्मी पिता को साइकिल से सात दिनों में 1,200 किमी दूरी तय करके अपने गांव ले गई.' सहनशक्ति और प्यार की इस वीरगाथा ने भारतीय लोगों और साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है.

ये भी पढ़ें

लालू-नीतीश के करीबी रहे नेता की भविष्यवाणी- अगला मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे नीतीश कुमार! बढ़ा सियासी बवाल

 देश के 50 प्रभावशाली व्यक्तियों में शामिल हुए नीतीश, राहुल गांधी- बाबा रामदेव समेत इन दिग्गजों को पछाड़ा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading