लाइव टीवी

जर्जर भवन में चल रहा है कामेश्‍वर सिंह संस्‍कृत विश्‍वविद्यालय, हो सकता है बड़ा हादसा

Vipin Kumar Das | News18 Bihar
Updated: July 24, 2018, 7:19 PM IST
जर्जर भवन में चल रहा है कामेश्‍वर सिंह संस्‍कृत विश्‍वविद्यालय, हो सकता है बड़ा हादसा
जर्जर भवन में संस्कृत विश्वविद्यालय (न्यूज18 फोटो)

कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्विद्यालय में काम करने वाले 100 से ज्यादा कर्मचारी जर्जर भवन में काम करने के लिए विवश हैं.

  • Share this:
सैकड़ों साल पुराना ऐतिहासिक दरभंगा का लक्ष्मेश्वर विलास पैलेस कुछ साल पहले आए बड़े भूकंप में जर्जर हो चुका है. इसी महल में राज्य स्तरीय कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्विद्यालय संचालित होता है. भवन की स्थिति खतरनाक है. छतें और दीवारें टूट कर गिरती रहती हैं. अब भूकंप का एक झटका भी लगे तो भवन गिर सकता है.

जर्जर भवन में दुर्घटना के खतरे को भांप कर कुलपति डॉ. सर्व नारायण झा ने वहां से कुलपति सचिवालय, अपने कक्ष और प्रति कुलपति कार्यालय को नीचे दूसरे भवन में शिफ्ट कर दिया है, लेकिन उन्होंने विश्वविद्यालय में काम करने वाले 100 से ज्यादा कर्मियों को उसी खतरनाक भवन में काम करने को छोड़ दिया है. कर्मचारी इसी खतरे में डरे-सहमे काम कर रहे हैं.

इस संबंध में जब कुलपति से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उनके कार्यालय का भवन ज्यादा खतरनाक था, इसलिए वे वहां से निकल गए. उन्होंने कहा कि जो भी कर्मी उस भवन में काम कर रहे हैं. वह अपेक्षाकृत सुरक्षित जगह पर हैं.

कुलपति के कहे बातों की सच्चाई जानने जब भवन की पड़ताल की तो पता चला कि कई कर्मचारी उसी भवन में काम कर रहे हैं, जिसे कुलपति खतरनाक बता कर छोड़ आए हैं. बाकी जिन भवनों को वे अपेक्षाकृत सुरक्षित बता रहे हैं, वे भी खतरनाक हैं.

बहरहाल, लक्ष्मेश्वर विलास पैलेस को जल्द मरम्मत नहीं किया गया तो एक ऐतिहासिक धरोहर विलुप्त हो सकता है और सैकड़ों कर्मियों की जान जा सकती है.

ये भी पढ़ें: 
जल्द शुरू होगा दरभंगा एयरपोर्ट, सीएम नीतीश के बाद जेटली ने किया ऐलाननीतीश कुमार का ऐलान- दरभंगा और पूर्णिया में जल्द बनेगा एयरपोर्ट
अगले साल जनवरी में चालू होगा दरभंगा एयरपोर्ट: संजय झा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दरभंगा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 24, 2018, 7:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर