होम /न्यूज /बिहार /Darbhanga : पहले नहीं हुआ ऐसा दशहरा! यहां जलेगा 60 फीट का रावण, हजारों की भीड़ के लिए इंतजाम भी

Darbhanga : पहले नहीं हुआ ऐसा दशहरा! यहां जलेगा 60 फीट का रावण, हजारों की भीड़ के लिए इंतजाम भी

हिंदू धर्म में दशहरा महत्वपूर्ण त्योहार है और इस दिन देश भर में परंपराओं के तहत कई खास आयोजन होते हैं. दरभंगा में इस बा ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट – अभिनव कुमार

    दरभंगा. इस बार रावण का पुतला दहन खास होने वाला है. दरभंगा में इस बार रावण के साथ उसके भाई कुंभकरण के पुतले को भी जलाया जाएगा. विजयादशमी के दिन ज़िले के एकमीघाट राम जानकी मंदिर परिसर में रावण दहन कार्यक्रम भव्य तरीके से होता है. इस रावण दहन को देखने के लिए भारी संख्या में लोग पहुंचते हैं. दर्शकों की भीड़ को देखते हुए ज़िला प्रशासन के साथ यहां के रावण दहन पूजा कमेटी के द्वारा भी विशेष व्यवस्था रहती है. इस बार यहां रावण के साथ कुंभकरण को भी जलाया जाएगा. वहीं इस बार के रावण का पुतला लगभग 60 फीट की होगा.

    स्थानीय निवासी छोटू कुमार और लखन पासवान बताते हैं कि यहां पर दूरदराज़ से लोग रावण दहन देखने आते हैं. दर्शकों की संख्या हज़ारों में पहुंच जाती है. ज़िला प्रशासन के साथ यहां पूजा कमेटी भी कई एहतियात बरतती है ताकि किसी भी प्रकार की कोई अनहोनी घटना न घटे. रावण दहन के लिए बनाए जा रहे पुतले को लेकर उन्होंने बताया कि बाहर से कारीगरों को बुलाकर भव्य पुतला बनाया जा रहा है. वहीं इस बार की खासियत है कि रावण के साथ कुंभकरण को भी जलाया जाएगा, यहां ऐसी परंपरा नहीं रही है.

    आखिर क्या है रावण दहन का महत्व?

    दशहरा हिंदुओं का महत्वपूर्ण त्योहार है. यह त्योहार अश्वनी मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है. हिंदू आस्था के मुताबिक प्रभु श्री राम ने इसी दिन रावण का वध किया था और मां दुर्गा ने 9 रात्रि और 10 दिन के बाद महिषासुर का वध भी इसी तिथि को किया था. यही कारण है कि इस दिन को असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक भी माना जाता है. रावण के पुतले को बुराई, अहंकार और असत्य के प्रतीक के रूप में जलाया जाता है.

    Tags: Darbhanga news, Ravana Dahan

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें