दरभंगा रेडियो स्टेशन में घुसा बाढ़ का पानी, प्रसारण बंद, मशीनें बचाने में जुटे इंजीनियर
Darbhanga News in Hindi

दरभंगा रेडियो स्टेशन में घुसा बाढ़ का पानी, प्रसारण बंद, मशीनें बचाने में जुटे इंजीनियर
दरभंगा आकाशवाणी परिसर में बाढ़ का पानी घुसा.

Bihar Flood: उत्तर बिहार के प्रमुख शहर दरभंगा में आकाशवाणी केंद्र (Darbhanga Akashwani) में घुसा बागमती नदी की बाढ़ का पानी. वैकल्पिक व्यवस्था के तहत किया जा रहा रेडियो प्रसारण.

  • Share this:
दरभंगा. उत्तर बिहार के कई जिलों में बाढ़ (Bihar Flood) का पानी लगातार अपना दायरा बढ़ाता जा रहा है. दरभंगा (Darbhanga) जिले में बागमती नदी का पानी तबाही मचा रहा है. ग्रामीण इलाकों के बाद अब इस नदी की बाढ़ का पानी शहरी क्षेत्रों की ओर बढ़ रहा है. बागमती नदी का पानी आज दरभंगा आकाशवाणी केंद्र (Darbhanga Akashwani) परिसर तक पहुंच गया. रेडियो स्टेशन के कैंपस में पानी घुसने से इंजीनियरों ने तत्काल प्रसारण बंद करवा दिया.

बाढ़ का पानी दरभंगा के छिपलिया स्थित आकाशवाणी प्रसारण केंद में भी प्रवेश कर गया है. कैंपस के साथ-साथ पानी रेडियो स्टेशन के ट्रांसमीटर रूम और जनरेटर रूम तक पहुंच गया, जिसके बाद प्रसारण बंद करना पड़ा. वैकल्पिक व्यवस्था के तहत अधिकारियों ने राजकुमार गंज स्टूडियो से किसी तरह रेडियो प्रसारण की प्रक्रिया को जारी रखा है. अधिकारियों के मुताबिक बाढ़ के कारण रेडियो प्रसारण की क्षमता पर भी असर पड़ा है, जिससे दूर दराज के श्रोताओं पूरी क्षमता से प्रसारण नहीं हो पा रहा है. इस बीच आकाशवाणी के इंजीनियर स्टेशन में लगे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को सुरक्षित करने में जुटे हुए हैं.

ये भी पढ़ें- कल से शुरू हो जाएगा उत्तर बिहार का लाइफ लाइन महात्मा गांधी सेतु



आकाशवाणी के अधिकारी सहायक इंजीनियर रामनरेश झा ने बताया कि आकाशवाणी में बाढ़ का पानी भर जाने के कारण प्रसारण बंद है. रेडियो स्टेशन के उपकरणों और अन्य सामान को सुरक्षित बचाने के लिए सभी इंतजाम किए जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि कैंपस के अंदर सभी जगहों पर एक फीट से ज्यादा पानी जमा हो गया है, जिसकी वजह से तत्काल रेडियो प्रसारण बंद कर दिया गया है. रामनरेश झा ने कहा कि अगर पानी की रफ़्तार ऐसी ही रही, तो उपकरणों और अन्य जरूरी सामान को बचाना मुश्किल हो जाएगा. हालांकि वैकल्पिक उपाय के तहत आकाशवाणी के दूसरे जगह स्थापित स्टूडियो से प्रसारण किया जा रहा है, लेकिन वहां से दूर दराज के श्रोताओं तक रेडियो की सही आवाज नहीं पहुंच पाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading