लाइव टीवी

UGC की चेतावनी, मैथिली विश्वविद्यालय में भूलकर भी न लें दाखिला

Vipin Kumar Das | News18 Bihar
Updated: April 26, 2018, 9:00 PM IST
UGC की चेतावनी, मैथिली विश्वविद्यालय में भूलकर भी न लें दाखिला
खंडहर में तब्दील 'फर्जी' मैथिली विश्वविद्यालय (न्यूज18 फोटो)

उत्तर प्रदेश और दिल्ली के अलावा यूजीसी की लिस्ट में बिहार, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, प. बंगाल, ओडिशा और पुडुचेरी के विश्वविद्यालय शामिल है.

  • Share this:
दरभंगा के हराही पश्चिम में स्थित मैथिली विश्वविद्यालय आज फिर खुर्खियों में है. दरअसल, यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (यूजीसी) ने 24 फर्जी विश्वविद्यालय की लिस्ट जारी की है. इस लिस्ट में बिहार का एकमात्र फर्जी संस्थान मैथिली विश्विद्यालय भी है.  इस लिस्ट में 8 विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश और सात दिल्ली में चल रहे हैं. यूजीसी ने लोगों को चेतावनी दी है कि वे इन विश्वविद्यालयों में एडमिशन न लें. उत्तर प्रदेश और दिल्ली के अलावा इस लिस्ट में बिहार, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और पुडुचेरी के विश्वविद्यालय शामिल है.

1961 में इस विश्वविद्यालय की स्थापना दीन राज शांडिल्य द्वारा की गई जिसके वे कुलपति बने तथा उनके एक भाई हरिनारायण ठाकुर इसके रजिस्ट्रार बने. यूजीसी ने मैथिली विश्वविद्यालय को 1986 में फर्जी घोषित कर दिया. 1986 में बिहार अपराध शाखा के द्वारा विश्वविद्यालय में व्याप्त कुव्यवस्था के कारण छापा मारा गया जिसमें बिहार सरकार द्वारा विश्वविद्यालय थाना कांड संख्या 138/86 के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज की गई जिसमें दिन राज शांडिल्य उर्फ सूर्यनारायण ठाकुर को जेल जाना पड़ा. साथ ही, आंध्र सरकार और तमिलनाडु सरकार के द्वारा भी प्राथमिकी दर्ज की गई और कॉलेज प्रशासन के लोग जेल भी गए.

इस विश्वविद्यालय के कुलपति और संस्थापक दीन राज शांडिल्य ने काफी प्रयास किया लेकिन फिर ये विश्वविद्यालय अस्तित्व में नहीं आ सका. आज यहां कोई शैक्षणिक गतिविधि नहीं है. इस भवन के एक हिस्से में मंदिर बना हुआ है जबकि दूसरा हिस्सा बंद पड़ा हुआ है.

यहां के स्थानीय लोग बताते हैं कि मैथिली विश्वविद्यालय के नाम पर बहुत बड़ा रैकेट काम कर रहा है.  बताया जाता है कि भले ही विश्वविद्यालय की आंतरिक गतिविधि बंद हो लेकिन बाहर अभी भी फर्जी डिग्री का काम चल रहा है.

बहरहाल, मैथिली विश्वविद्यालय की गतिविधि पर सरकार गंभीरता से जांच करे तो इसके नाम पर देश के कई राज्यों में चल रहे फर्जीवाड़े को रोका जा सकता है. लेकिन हर साल यूजीसी का लिस्ट जारी होती है और इस तरह के विश्वविद्यालय सुर्खियों में आते हैं और फिर से मामला ठंडे बस्ते में चला जाता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दरभंगा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 26, 2018, 7:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर