Home /News /bihar /

दरभंगा एम्स में रोज 2500 मरीजों का होगा इलाज, 750 बेड वाले बिहार के दूसरे AIIMS की 10 खास बातें

दरभंगा एम्स में रोज 2500 मरीजों का होगा इलाज, 750 बेड वाले बिहार के दूसरे AIIMS की 10 खास बातें

Darbhanga AIIMS News: दरभंगा में एम्स निर्माण के लिए नीतीश कुमार की सरकार ने केंद्र को 200 एकड़ जमीन ट्रांसफर की.

Darbhanga AIIMS News: दरभंगा में एम्स निर्माण के लिए नीतीश कुमार की सरकार ने केंद्र को 200 एकड़ जमीन ट्रांसफर की.

Darbhanga AIIMS News: बिहार सरकार के मंत्रिमंडल ने बीते दिनों दरभंगा में बहुप्रतीक्षित AIIMS के लिए केंद्र को 200 एकड़ जमीन ट्रांसफर करने को मंजूरी दे दी. बिहार में बनने वाले दूसरे एम्स की ओपीडी में रोजाना 2500 मरीजों का इलाज हो सकेगा, साथ ही इस मेडिकल कॉलेज अस्पताल में MBBS की 100 सीटों पर डॉक्टरी की पढ़ाई भी हो सकेगी. नीतीश सरकार के मंत्री संजय झा के मुताबिक 1264 करोड़ रुपए की लागत से दरभंगा एम्स बनकर तैयार होगा, जो उत्तर बिहार के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराएगा.

अधिक पढ़ें ...

    दरभंगा/पटना. उत्तर बिहार के प्रमुख शहर और मिथिलांचल इलाके की हृदयस्थली के रूप में मशहूर दरभंगा के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार ने बीते दिनों बड़ा ऐलान किया. उत्तर बिहार के लोगों को दिवाली का तोहफा देते हुए राज्य सरकार की कैबिनेट ने दरभंगा एम्स के लिए जमीन ट्रांसफर करने को मंजूरी दे दी. बिहार सरकार ने दरभंगा में बहुप्रतीक्षित एम्स के लिए केंद्र को 200 एकड़ से ज्यादा जमीन हस्तांतरित कर दी. दरभंगा में डीएमसीएच के अलावा यह एक बड़ा अस्पताल होगा, जो पूरे उत्तर बिहार के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने में सक्षम होगा. इस अस्पताल का निर्माण पूरा हो जाने के बाद ओपीडी में एक दिन में 2500 मरीजों का इलाज हो सकेगा. साथ ही यहां 100 सीटों पर एमबीबीएस और 60 सीटों पर बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई भी हो सकेगी.

    बिहार में स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध कराने की दिशा में दरभंगा एम्स की स्थापना महत्वपूर्ण कदम बताया जाता रहा है. हालांकि लगभग 5 साल पहले दरभंगा एम्स की स्थापना का ऐलान करने के बाद से इस दिशा में कोई उल्लेखनीय कदम नहीं उठाया गया, जिसके कारण स्थानीय लोगों में नाराजगी भी है. दो महीने पहले स्थानीय छात्र संगठन मिथिला स्टूडेंट्स यूनियन ने दरभंगा एम्स की स्थापना के लिए घर-घर से ईंट लाने का बड़ा अभियान भी छेड़ा था. बिहार सरकार के मंत्री संजय कुमार झा ने बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार ने बिहारवासियों को ‘दिवाली गिफ्ट’ दी है. इसके तहत ही दरभंगा एम्स के लिए केंद्र सरकार को 200 एकड़ जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया को मंजूरी दी गई है. दरभंगा एम्स के निर्माण और यहां की सुविधाओं के बारे में आप इन 10 बिंदुओं में सब कुछ जान सकते हैं…

    आपके शहर से (दरभंगा)

    दरभंगा एम्स के लिए बिहार सरकार ने कुल 200.02 एकड़ जमीन केंद्र को ट्रांसफर करने की मंजूरी दी है. इसके तहत दरभंगा प्रखंड में 174.86 और बहादुरपुर प्रखंड की 25.16 एकड़ जमीन केंद्र सरकार को मुफ्त हस्तांतरित की गई है. दरभंगा में बनने वाला अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान बिहार का दूसरा एम्स होगा. इससे पहले बिहार की राजधानी पटना के फुलवारीशरीफ में AIIMS का निर्माण हो चुका है.
    दरभंगा एम्स के निर्माण के लिए जमीन हस्तांतरण के ऐलान से स्थानीय लोगों में खुशी है. आपको बता दें कि दरभंगा में बिहार का दूसरा सबसे बड़ा अस्पताल डीएमसीएच पहले से है, जो मिथिलांचल इलाके के प्रमुख अस्पताल के रूप में मशहूर है. AIIMS बन जाने के बाद उत्तर बिहार के स्वास्थ्य सुविधाओं में महत्वपूर्ण वृद्धि होगी. लोगों का कहना है कि दरभंगा एयरपोर्ट के लिए भूमि अधिग्रहण के ऐलान के बाद एम्स की जमीन ट्रांसफर करने का फैसला मिथिलांचल के लोगों के लिए राहत देने वाली खबर है.
    दरभंगा एम्स के बनने से जिले के आसपास के मधुबनी, समस्तीपुर, बेगूसराय, सीतामढ़ी जैसे जिलों के साथ-साथ पड़ोसी देश नेपाल के लोगों को भी सुविधा होगी. उन्हें इलाज के लिए पटना, दिल्ली या देश के अन्य शहरों में नहीं जाना पड़ेगा. दरभंगा में डीएमसीएच के साथ-साथ एम्स भी होगा, जहां विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधाएं मिलेंगी.
    दरभंगा एम्स के निर्माण की घोषणा करीब 5 साल पहले केंद्रीय बजट में की गई थी. दरभंगा के डीएमसीएच परिसर के पास ही इसके निर्माण की योजना भी बनी, लेकिन उसके बाद से इस दिशा में उल्लेखनीय कदम नहीं उठाया जा सका था. इसको लेकर स्थानीय सामाजिक और छात्र संगठनों ने कई बार बड़े आंदोलन किए. हाल के दिनों में मिथिला स्टूडेंट यूनियन के बैनर तले दरभंगा और आसपास के अलग-अलग जिलों के छात्रों ने घर-घर से ईंट लाकर दरभंगा एम्स का शिलान्यास करने का अभियान चलाया था.
    दरभंगा एम्स के निर्माण के लिए स्थानीय स्तर पर किए गए इन आंदोलनों को जनता का साथ भी मिला था. साथ ही कई राजनीतिक दलों के नेताओं ने भी उत्तर बिहार की स्वास्थ्य सुविधाओं के विकास के लिए जल्द से जल्द दरभंगा एम्स के निर्माण की वकालत की थी. इसके बाद आखिरकार बिहार सरकार ने दरभंगा एम्स के लिए जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया को अब जाकर मंजूरी दी है.
    दरभंगा एम्स के बारे में बिहार सरकार के मंत्री संजय कुमार झा ने मीडिया को बताया कि इस अत्याधुनिक सुविधाओं वाले अस्पताल के निर्माण की लागत करीब 1264 करोड़ रुपए होगी. दरभंगा एम्स में 750 बेड होंगे, जहां कठिन से कठिन बीमारियों का इलाज हो सकेगा. उत्तर बिहार के जिलों के अलावा नेपाल के तराई इलाके को लोगों को भी इस अस्पताल के बनने से लाभ होगा.
    दरभंगा एम्स में न सिर्फ मरीजों के बेहतर इलाज की सुविधा होगी, बल्कि यहां एमबीबीएस और नर्सिंग की पढ़ाई भी होगी. इससे बिहार में मेडिकल शिक्षा के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय वृद्धि होगी. दरभंगा एम्स में MBBS की 100 सीटों पर पढ़ाई की मंजूरी दी गई है. साथ ही बीएससी नर्सिंग के लिए भी 60 सीटों पर दाखिले को मंजूरी मिल चुकी है.
    दरभंगा एम्स का निर्माण प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत किया जाएगा. इस अस्पताल में 15 से 20 सुपर स्पेशियलिटी डिपार्टमेंट भी होंगे, जहां मरीजों को अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधा का लाभ मिल सकेगा. इस अस्पताल की ओपीडी में रोजाना 2500 मरीजों का इलाज हो सकेगा, जिससे डीएमसीएच और अन्य टर्शियरी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों के ऊपर से अतिरिक्त दबाव कम होगा.
    दरभंगा एम्स बिहार का दूसरा और देश का 22वां एम्स होगा. केंद्र सरकार की सबको स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लक्ष्य के तहत देश के दूरदराज इलाकों में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान जैसे अस्पताल बनाने की योजना के तहत ही दरभंगा में इस हॉस्पिटल का निर्माण कराया जा रहा है. इस अस्पताल के निर्माण से बिहार में न सिर्फ हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर में वृद्धि होगी, बल्कि लोगों को उनके घर के नजदीक चिकित्सा सुविधाएं मिल सकेंगी.
    दरभंगा एम्स के लिए जमीन आवंटन की प्रक्रिया को मंजूरी मिलने पर बिहार सरकार के कई मंत्रियों और नेताओं ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति आभार जताया है. इन मंत्रियों ने केंद्र सरकार को भी दरभंगा में एम्स निर्माण के लिए बधाई दी है. मंत्री जीवेश कुमार और संजय झा सहित अन्य नेताओं ने दरभंगा एम्स के जमीन हस्तांतरण को उत्तर बिहार में स्वास्थ्य सुविधाओं में महत्वपूर्ण बताया है.

    Tags: AIIMS, Darbhanga Airport, Darbhanga news, Nitish Government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर