दावों की हकीकत! बाढ़ के पानी में जुगाड़ नाव से गर्भवती महिला को पहुंचाया अस्पताल, देखें वीडियो
Darbhanga News in Hindi

दावों की हकीकत! बाढ़ के पानी में जुगाड़ नाव से गर्भवती महिला को पहुंचाया अस्पताल, देखें वीडियो
दरभंगा में जुगाड़ की नाव से गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाते लोग.

मुश्किल परिस्थिति के बीच मजबूर घरवालों ने जुगाड़ टेक्नोलॉजी से ट्यूब का नाव बनाया, फिर उसके ऊपर लकड़ी डालकर गर्भवती महिला (Pregnant woman) और उसकी मां को बिठाया.

  • Share this:
दरभंगा. उत्तर बिहार में बाढ़ (Flood in Bihar) का कहर जारी है. इस दौरान कई ऐसी तस्वीरें और वीडियो हमारे सामने आ रहे हैं जो शासन व्यवस्था के विकास के दावों की पोल खोलती हैं. इसी क्रम में दरभंगा में बाढ़ के पानी के बीच दर्द से कराह रही एक गर्भवती महिला (Pregnant woman) की ऐसी तस्वीर सामने आई है जो निश्चित ही शासन-सत्ता के दावों का सच सामने लाती है. दरअसल बाढ़ के पानी के बीच घिरी एक गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाने का जब कोई साधन नहीं मिला तो परिवारवालों ने जुगाड़ की नाव बनाई और किसी तरह गांव से निकाल कर अस्पताल पहुंचाया. फिर डॉक्टरों ने महिला का तत्काल इलाज़ किया.

घरों से निकलना भी मुश्किल
पूरा मामला दरभंगा के केवटी प्रखंड के असराहा गांव की है. जहां पूरे इलाके में बाढ़ का पानी आ जाने से लोगों की परेशानी बढ़ गई है. गांव की सड़कों पर पानी आ जाने से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इसी दौरान आठ माह की गर्भवती महिला रुखसाना परवीन को अचानक पेट में तेज़ दर्द शुरू हो गया. बाढ़ के पानी में घिरे होने के कारण सड़क डूब चुकी थी. कमर भर से ज्यादा पानी होने के कारण घर से निकलना मुश्किल था.

जुगाड़ की नाव से पहुंचे अस्पताल
इस मुश्किल परिस्थिति के बीच मजबूर घरवालों ने जुगाड़ टेक्नोलॉजी से ट्यूब का नाव बनाया उसके ऊपर लकड़ी डालकर गर्भवती महिला और उसकी मां को बिठाया. फिर चार पांच युवक किसी तरह इस जुगाड़ की नाव को ठेलते हुए घर से निकाल कर लाया जिसके बाद ऑटो पर डाल महिला को तुरंत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र केवटी पहुचाया गया. जहां महिला का इलाज़ किया गया.





एक नाव से ही चलता है काम
गर्भवती महिला की मां कनीजा खातून ने बताया कि बाढ़ का पानी उनके घर तक पहुंच चुका है. बेटी की तबीयत बिगड़ी तो किसी तरह ट्यूब के सहारे बाढ़ की पानी पार कर अस्पताल आये और इलाज कराया है. लेकिन अब भी बेटी को दर्द हो ही रहा है. वही रेस्क्यू टीम में शामिल युवक साहिल अब्बासी ने कहा की बाढ़ का समय है इसी बीच गर्भवती महिला को दर्द शुरू हो गया जिसके बाद केला के थम पर ट्यूब के साथ तख्ता रख कर केवटी अस्पताल  लाये. पंचायत में  एक नाव जिला प्रशासन से मिली है जिससे  काफी  असुविधा हो रही है. ।एक नाव और नाव दिया जाय जिससे पंचायत के लोगों की परेशानी कम हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज