मिथिला के लाल नर्मदेश्वर झा बुलेट ट्रेन को देंगे रफ्तार, जापान में ले रहे ट्रेनिंग

नर्मदेश्वर झा के बुलेट ट्रेन परियोजना में चयन से महिनाम सहित पूरा मिथिलांचल अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहा है.

Vipin Kumar Das | News18 Bihar
Updated: September 15, 2018, 8:12 PM IST
मिथिला के लाल नर्मदेश्वर झा बुलेट ट्रेन को देंगे रफ्तार, जापान में ले रहे ट्रेनिंग
बुलेट ट्रेन के लिए जापान में ट्रेनिंग ले रहे नर्मदेश्वर झा (न्यूज18 फोटो)
Vipin Kumar Das | News18 Bihar
Updated: September 15, 2018, 8:12 PM IST
देश में बुलेट ट्रेन के परिचालन की परिकल्पना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक है. प्रधानमंत्री के सपने को पूरा करने वाली टीम में मिथिलांचल का एक लाल भी शामिल है. दरभंगा जिला के बेनीपुर प्रखंड के महिनाम गांव निवासी डॉ. ललितेश्वर झा के बेटे नर्मदेश्वर झा भारत सरकार की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना में शामिल किए गए हैं. फिलहाल वह ट्रेनिंग के लिए जापान गए हैं.

नर्मदेश्वर इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस के अधिकारी हैं और फिलहाल सीनियर डिवीजनल ऑपरेशन मैनेजर के पद पर मुंबई सेंट्रल रेलवे में कार्यरत हैं. इन दिनों बुलेट ट्रेन परिचालन की ट्रेनिंग लेने जापान के हिरोशिमा और नागासाकी के 15 दिनों के दौरे पर हैं.

ये भी पढ़ें- बीजेपी के साथ सीट शेयरिंग पर जेडीयू प्रेसिडेंट ने किया बड़ा खुलासा

नर्मदेश्वर के चयन से महिनाम सहित पूरा मिथिलांचल अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहा है. नर्मदेश्वर तीन भाइयों में सबसे छोटे हैं. इनकी प्रारंभिक शिक्षा गांव के ही महिनाम हाईस्कूल से हुई. इसके बाद बेगूसराय के मंझौल कॉलेज से इंटर की पढ़ाई पूरी की. इसके बाद एमआईटी से बीटेक और आईआईटी कानपुर से एमटेक की पढ़ाई पूरी की.

2002 में नर्मदेश्वर का चयन इंडियन इंजीनियररिंग सर्विस के लिए हुआ, जिसके बाद सेंट्रल वाटर कमीशन दिल्ली में सीनियर इंजीनियर के पद पर नियुक्ति हुई. नौकरी पाने के बावजूद यूपीएससी की तैयारी में लगे रहे. मेहनत रंग लाई और इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस के लिए चुने गए. पहली पोस्टिंग भुसावल में सीनियर डीसीएम पद पर हुई. महाराष्ट्र के शोलापुर में बतौर सीनियर डिवीजनल ऑपरेशनल मैनेजर रहे. वर्तमान में मुंबई सेंट्रल रेलवे में सीनियर डीओएम के पद पर कार्यरत हैं.

ये भी पढ़ें- मृतक इंजीनियर ब्रजेश की मां ने कहा- भगवान के घर में देर है अंधेर नहीं

उनके पिता डॉ. ललितेश्वर झा मंझौल संस्कृत कॉलेज में शिक्षक रहे हैं. नर्मदेश्वर के सगे-संबंधी गांव में ही रहते हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर