बच्चों के साथ पति के शव के पास 24 घंटे से बैठी है महिला, Corona से मौत की आशंका से गांव में दहशत
Darbhanga News in Hindi

बच्चों के साथ पति के शव के पास 24 घंटे से बैठी है महिला, Corona से मौत की आशंका से गांव में दहशत
मुखिया राजीव कुमार चौधरी ने कहा कि वे बिना समय गवाये इसकी सूचना प्रखंड चिकित्सा प्रभारी को दी.

मृतक की पत्नी का कहना है कि उनका पति 2 जून को दिल्ली से दरभंगा (Darbhanga) के सिंहवाड़ा स्थित घर पंहुचा था. उस वक्‍त उन्‍हें तेज बुखार था.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
दरभंगा. बिहार के दरभंगा (Darbhanga) जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां की पंचोभ पंचायत स्थित शिवदासपुर गांव (Shivdaspur Village) में एक महिला अपने पति के शव (Dead body) के साथ पिछले 24 घंटे से घर में बैठी है. महिला के साथ उनके छोटे-छोटे तीन बच्चे भी हैं जो भूखे-प्यासे हैं. इसके बावजूद गांव के लोग चाहकर भी महिला की मदद नहीं कर पा रहे हैं. यहां तक कि कोई उस घर में भी नहीं आ रहा है.

मृतक की पत्नी की मानें तो उनका पति परिवार के साथ 2 जून को दिल्ली से दरभंगा के सिंहवाड़ा स्थित घर पंहुचा था. तब उनका पति तेज़ बुखार से ग्रसित था. ऐसे में वह उन्‍हें लेकर इलाज कराने के लिए अस्पताल पहुंचीं, जहां चिकित्सकों ने सभी को क्‍वारेंटाइन होने की बात कही, तभी एक अधिकारी ने क्‍वारंटाइन सेंटर बंद होने की बात कहकर घर पर ही सुरक्षित रहते हुए इलाज कराने की सलाह दी. ऐसे में बीमार पति को लेकर महिला घर लौट गई, लेकिन समय के साथ पति की तबियत और बिगड़ती चली गई. ऐसे में महिला से रहा नहीं गया और वह पति और बच्चों को लेकर अपने मायके शिवदासपुर पहुंच गई. बिमारी हालात में दिल्ली से आने की बात सुन गांव में हड़कंप मच गया. लोग इसे कोरोना बिमारी होने के शक से देखने लगे. कोरोना से भयभीत गांव के लोग इसकी सूचना गांव के मुखिया राजिव चौधरी को दी.

एम्बुलेंस देने से इंकार
मुखिया राजीव कुमार चौधरी ने कहा कि वे बिना समय गंवाए इसकी सूचना प्रखंड चिकित्सा प्रभारी को दी. साथ ही बीमार शख्‍स के इलाज़ के लिए आग्रह किया. मुखिया ने एक एम्बुलेंस की भी मांग की लेकिन डॉक्टर ने यह कह कर मदद से इंकार कर दिया कि अब लॉकडाउन समाप्त हो गया है. ऐसे में अपने वाहन की सुविधा से आप अस्पताल जाएं. कोरोना होने के शक के कारण कोई वाहन मालिक अपनी गाड़ी देने को तैयार नहीं हुआ. इलाज के अभाव में आखिरकार उसकी मौत हो गई. मौत के बाद गांव के सभी लोग दहशत में आ गए और शव की कोरोना टेस्टिंग की मांग करने लगे.



ये भी पढ़ें- 



झारखंड में तुगलकी फैसला मजदूरों से कहा-काम करने बाहर जाना है तो पहले लो मंजूरी

झारखंड में कोरोना विस्फोट, एक दिन रिकॉर्ड 79 मामले मिले, 922 पर पहुंचा आंकड़ा
First published: June 7, 2020, 5:59 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading