Home /News /bihar /

नकल की एक तस्वीर ने कराई थी बिहार की बदनामी तो सरकार ने उठाया ये कदम

नकल की एक तस्वीर ने कराई थी बिहार की बदनामी तो सरकार ने उठाया ये कदम

कार्यशाला में पटना जिले के लगभग 3 हजार शिक्षक मौजूद रहे

कार्यशाला में पटना जिले के लगभग 3 हजार शिक्षक मौजूद रहे

कार्यशाला में पटना जिले के लगभग 3 हजार शिक्षक मौजूद रहे

2015 में मैट्रिक की परीक्षा के दौरान हुए नकल की एक तस्वीर ने बिहार की खूब बदनामी करायी थी. ये तस्वीर कुछ यूं वायरल हुई थी कि देश के साथ विदेशों में भी बिहार की शिक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल उठने लगे थे.

पिछली गलतियों से सबक लेते हुए सरकार और उसके अफसर इस बार कोई ऐसी गलती नहीं करना चाह रहे जिससे उनकी किरकिरी हो. इसी महीने शुरू होने वाली इंटर और मैट्रिक की परीक्षा को कदाचार मुक्त बनाने के लिए पहली बार पटना में वीक्षकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्याशाला का आयोजन किया गया.

र्कायशाला में पटना जिले के करीब तीन हजार वीक्षक शामिल हुए. इस कार्यशाला में डीएम की स्पीच ने शिक्षकों के बीच नया जोश भर दिया. दरअसल पटना के डीएम संजय अग्रवाल ने इस बार कदाचार मुक्त परीक्षा के लिए बेहतर काम करने वाले शिक्षकों को रोल मॉडल के रूप में पेश करने की घोषणा की है.

डीएम की स्पीच सुनने के बाद वीक्षकों को ये विश्वास ही नहीं हो रहा था कि परीक्षा में वीक्षकों को इतनी बड़ी जिम्मेवारी दी जा सकती है. वीक्षकों की कार्यशाला को संबोधित करने के बाद डीएम ने उन अभिभावको को भी संदेश दिया जो बच्चों को नकल कराने खुद परीक्षा केन्द्रों पर पहुंचते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर