एमएसपी न मिलने के खिलाफ 'मक्का हवन' करेंगे बिहार के किसान
Khagaria News in Hindi

एमएसपी न मिलने के खिलाफ 'मक्का हवन' करेंगे बिहार के किसान
कौन सुनेगा बिहार के मक्का किसानों का दर्द?

लॉकडाउन में होगा अनोखा आंदोलन, अपने-अपने दरवाजे पर मक्के का हवन करके करेंगे सरकार का विरोध

  • Share this:
नई दिल्ली. बृहस्पतिवार को बिहार (Bihar) के मक्का किसान (Maize farmer) सही दाम नहीं मिलने के खिलाफ अनोखा आंदोलन करेंगे. कोरोना के चक्कर में वे सड़क पर आंदोलन नहीं करेंगे, बल्कि 25 जून को वो अपने-अपने दरवाजे पर मक्का का हवन करेंगे. इस बात की जानकारी बिहार किसान मंच के अध्यक्ष धीरेंद्र सिंह टुडू ने दी है.

टुडू ने कहा कि बिहार देश के प्रमुख मक्का उत्पादक राज्यों में शामिल है. लेकिन यहां के मक्का उत्पादक किसानों को उचित दाम नहीं मिलने से वे परेशान हैं.    उन्होंने कहा कि केंद्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री राम विलास पासवान बिहार से हैं. एफसीआई (FCI-Food Corporation of India) उनके अधीन है इसके बावजूद यहां पर मक्के का कोई सरकारी खरीद केंद्र नहीं है.

टुडू ने यह भी कहा कि, बिहार मक्का स्टार्च हब कहलाता है इसके बावजूद यहां स्टार्च फैक्टरी नहीं लगना दुर्भाग्यपूर्ण है. खगड़िया में प्रिस्टाइन मेगा फूड पार्क में मक्के से बनने वाली चीजों की 34 यूनिट लगाई जानी थी लेकिन आज तक कुछ नहीं हुआ. यह वही फूड पार्क है जिसका केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल (Harsimrat Kaur Badal) ने 29 नवंबर 2018 को उद्घाटन करने से इनकार कर दिया था.



ये भी पढ़ें:PM किसान स्कीम: अभी आवेदन किया तो 31 जुलाई से पहले ही आ जाएंगे 2000 रुपये
टुडू ने कहा कि एक क्विंटल मक्का पैदा करने में किसानों को C2 लागत के हिसाब से 1200-1300 सौ रुपये खर्च बैठता है. बिहार के किसान मक्का को 1100-1200 मे बेच रहा है, जबकि भारत सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य 1850 रुपये निर्धारित किया है.

उन्होंने सरकार के सामने पांच मांग रखी है-

(1)  केंद्र और राज्य सरकार मक्का खरीद सुनिश्चित करे.

(2)  केंद्र और राज्य सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को सशक्त कानून का स्वरूप दे, जो एमएसपी से कम कीमत पर खरीद करेगा उसको सात साल की सजा और दो लाख रुपये का जुर्माना हो.

ये भी पढ़ें: मंडी से बाहर कृषि कारोबार की व्यवस्था में किसान को नहीं मिलेगा MSP का लाभ!

(3)  केंद्र और राज्य सरकार मक्का प्राधिकरण बोर्ड का गठन करे.

(4)  MSP से कम कीमत पर खरीदने पर सरकार किसानों को भावांतर की राशि दे.

(5)  मक्का उत्पादक राज्यों और जिलों में मक्का आधारित उद्योग स्टार्च फैक्ट्री लगाई जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज