लाइव टीवी

बोधगयाः महाबोधि मंदिर में प्रवेश पर तलाशी से समझौता नहीं, भिक्षुओं को अलग-अलग रंग के मिलेंगे पास

Arun Chaurasia | News18 Bihar
Updated: November 22, 2019, 11:55 PM IST
बोधगयाः महाबोधि मंदिर में प्रवेश पर तलाशी से समझौता नहीं, भिक्षुओं को अलग-अलग रंग के मिलेंगे पास
बोधगया टेंपल एडवाइजरी बोर्ड की सालाना बैठक में शामिल विभिन्न देशों के प्रतिनिधि और अधिकारी.

बोधगया टेंपल एडवाइजरी बोर्ड (Bodhgaya Temple Advisory Board) की सालाना बैठक में दुनिया के कई बौद्ध देशों (Buddhist countries) के प्रतिनिधियों ने बीटीएमसी (BTMC) एक्ट-1949 में संशोधन पर जताई सहमति. बैठक में महाबोधि मंदिर (Mahabodhi Temple) में तलाशी के दौरान किसी भी तरह की ढिलाई के सुझाव को खारिज कर दिया गया.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: November 22, 2019, 11:55 PM IST
  • Share this:
बोधगया. भगवान बुद्ध की ज्ञानस्थली बोधगया के महाबोधि मंदिर (Mahabodhi Temple) परिसर एवं उनसे जुड़े स्थलों के विकास एवं अन्य मुद्दों पर सलाह देने की लिए शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय स्तर की सलाहकार कमिटी बोधगया टेंपल एडवाइजरी बोर्ड (Bodhgaya Temple Advisory Board) की बैठक हुई. इसमें कई बौद्ध देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए. बीटीएमसी (Bodhgaya Temple Management Committee) सभागार में हुई बैठक में बीटीएमसी एक्ट 1949 में संशोधन समेत कई अहम फैसले लिए गए. थाईलैंड के राजदूत के प्रतिनिधि ने बिना बॉडी टच किए फ्रिस्किंग (Frisking) यानी तलाशी का सुझाव रखा, जिसे अस्वीकार कर दिया गया. बैठक में मौजूद पुलिस के प्रतिनिधि ने महाबोधि मंदिर की सुरक्षा को देखते हुए यह सुझाव मानने से इनकार कर दिया. अलबत्ता इस बारे में बीटीएमसी से कहा गया कि वह संबंधित बौद्ध मठों के साथ बातचीत कर भिक्षुओं को अलग-अलग रंगों के पास जारी करे.

बैठक में दी गई कई जानकारी
टेंपल एडवाइजरी बोर्ड की बैठक इससे पहले 26 जुलाई 2018 को हुई थी. कमिटी की बैठक की अध्यक्षता म्यांमार के राजदूत के प्रतिनिधि कॉन्सुल जनरल कोलकाता यू मिनट शो ने की, जबकि संचालन मगध प्रमंडल के आयुक्त ने किया. बैठक में भूटान और थाईलैंड के राजदूत के प्रतिनिधि, रॉयल थाई कॉन्सुलट कोलकाता के कॉन्सुल, श्रीलंका हाई कमीशन और महापावन दलाई लामा के प्रतिनिधि, सारनाथ के प्रोफेसर और सीएमबीएसआई के जनरल सेक्रेटरी, मगध के आईजी, डीएम, एसएसपी, पुरातत्व विभाग के निदेशक आदि मौजूद थे. बैठक के दौरान डीएम अभिषेक सिंह ने बीटीएमसी एक्ट 1949 के रूल्स एवं एक्ट में संशोधन का सुझाव दिया, जिस पर सभी सदस्यों ने सहमति दी. एक्ट में बदलाव की मांग लंबे अर्से से की जा रही थी. डीएम ने दोमुहान से नोड-1 तक की सड़क को महाबोधि महाविहार का नामकरण करने के बाबत नगर पंचायत से प्रस्ताव पारित करने की जानकारी दी. साथ ही मंदिर क्षेत्र को स्लॉटर रहित घोषित किए जाने की जानकारी दी गई.

मंदिर की सुरक्षा सर्वोपरि

बैठक के दौरान थाईलैंड के राजदूत के प्रतिनिधि मिस स्विया शांतिपिटक्स, कॉन्सुल जनरल ने बिना बॉडी टच किए फ्रिस्किंग करने का सुझाव रखा. इस पर पुलिस महानिरीक्षक पारसनाथ ने बताया कि मंदिर परिसर की सुरक्षा सर्वोपरि है, इसके लिए फ्रिस्किंग जरूरी है. इस संबंध में बीटीएमसी के सचिव को संबंधित मठों के बौद्ध भिक्षु से समन्वय स्थापित कर उन्हें अलग-अलग रंग के पास जारी करने का सुझाव दिया गया. इसके अलावा कई अन्य प्रस्तावों पर भी बैठक में चर्चा कर सहमति दी गई.

टेंपल एडवाइजरी बोर्ड की बैठक में बीटीएमसी एक्ट में संशोधन पर सहमति दी गई.


इन प्रस्तावों पर चर्चा और सहमति- पटना-गया और गया-राजगीर पथ में पर्यटकों के लिए जन सुविधा.
- पिछली बैठक में जिस विश्व स्तरीय कन्वेंशन सेंटर के निर्माण की मांग की गई थी, वह सुजाता बाईपास के समीप बन रहा है.
- 120 बिस्तर वाला स्टेट गेस्ट हाउस बनाया जा रहा है.
- बोधगया को आईकॉनिक प्लेस के रूप में सरकार द्वारा चयन किया गया है और इसके लिए आईकॉनिक सिंबल भी दिया गया है, केंद्र सरकार और राज्य सरकार इसके लिए निधि उपलब्ध करा रही है.
- बोधि वृक्ष की देखभाल फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट देहरादून कर रहा है. समय-समय पर उसके वैज्ञानिक इसकी टहनियों और पत्तों की जांच करते हैं.
- महाबोधि मंदिर परिसर में भिक्षाटन रोकने पर चर्चा. सुझाव दिया गया कि सभी मोनेस्ट्री श्रद्धालुओं को इस बात के लिए प्रोत्साहित करेंगे कि वे दान सीधे बीटीएमसी को दें.
- बौद्ध महोत्सव 2020 में जापान एवं कोरिया के कलाकारों को बुलाने का सुझाव.
- सभी प्रतिनिधियों को अपने-अपने देश में बौद्ध महोत्सव का प्रचार-प्रसार करने का भी सुझाव दिया गया.

ये भी पढ़ें -

बोधगया का पर्यटन सीजन शुरू, ज्ञान और शांति की तलाश में देश-विदेश से पहुंचने लगे श्रद्धालु

गोल्ड जीतने जापान जाएगा गिरिराज सिंह का ये 'गरीब' रिश्तेदार, किसान परिवार से रखता है ताल्लुक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 11:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर