'शॉटगन' की बगावत को झेंप गए मोदी के मंत्री, बोले- विपक्ष का काम है विरोध करना

कोलकाता में शत्रुघ्न सिन्हा के पहुंचने पर और नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करने के मसले पर सिन्हा ने कहा कि वो अपना निजी निर्णय ले सकते हैं

News18 Bihar
Updated: January 21, 2019, 11:26 AM IST
'शॉटगन' की बगावत को झेंप गए मोदी के मंत्री, बोले- विपक्ष का काम है विरोध करना
प्रेस से बात करते जयंत सिन्हा
News18 Bihar
Updated: January 21, 2019, 11:26 AM IST
केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जंयत सिन्हा ने कहा है कि सरकार का मूल मंत्र है सबका साथ और सबका विकास और सरकार इस काम को बखूबी निभा रही है. सिन्हा ने गया में कहा कि हाल में किए गए काम ये दर्शाते हैं कि हम किस प्रकार से सामाजिक न्याय के काम में लगे हुए हैं.

उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय में हमारी सरकार ने जो भी निर्णय लिए हैं उनमें से एक और बहुत ऐतिहासिक निर्णय गरीब सवर्णों को आरक्षण देने का है. जिस प्रकार हम लोगों ने ट्रिपल तलाक के लिए संघर्ष किया है जिस प्रकार से ओबीसी का नेशनल कमीशन स्थापित किया है उसी प्रकार से यह आरक्षण के द्वारा सामाजिक न्याय के दिशा में जो हमारी सरकार चल रही है इस पर भी हम लोगों ने बड़ा ही ऐतिहासिक ठोस कदम इस सत्र में उठाया है.

ये भी पढ़ें- बक्सर में युवक को सरेआम गोलियों से भूना, मौके पर हुई मौत



उन्होंने बताया कि कोलकाता में महागठबंधन की जो रैली हुई है वहां के लोग एक मजबूर सरकार चाहते हैं जिसमें उनका भ्रष्टाचार चलता रहे और वो देश को हानि पहुंचाते रहें. उन्होंने कहा कि देश मजबूत सरकार चाहती है. इस सकराक में जो विकास हुआ है वो सामाजिक न्याय के साथ हुआ है और भ्रष्टाचार पर लगाम लगी है.

ये भी पढ़ें- थाना प्रभारी पर लगा गंभीर आरोप, सिपाही की पत्नी से फोन पर करता था 'गन्दी बात'

उन्होंने यूपीए सरकार में बहुत सारे नेता के पीएम बनने की दावेदारी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि महागठबंधन महाठगबंधन है. वहां लूट बंधन है और इस महालूट बंधन में बड़े डकैत हैं. बहुत सारे लोग हैं जो हैं यूपीए सरकार में किए गए भ्रष्टचार को फिर से एक बार करना चाहते हैं.

कोलकाता में शत्रुघ्न सिन्हा के पहुंचने पर और नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करने के मसले पर सिन्हा ने कहा कि वो अपना निजी निर्णय ले सकते हैं लेकिन मैं एक बात स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि लोकतंत्र में विपक्ष का काम है विरोध करना, विपक्ष का काम है आलोचना करना, निंदा करना. यह विपक्ष की जिम्मेवारी है और इससे हमारा लोकतंत्र जो है और दुरुस्त होता है मजबूत होता है और हम इसका स्वागत करते हैं.
Loading...

रिपोर्ट- एलेन लिली
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...