गया, बोधगया, टिकारी और शेरघाटी में दिवाली पर पटाखे की बिक्री और इस्तेमाल पर रोक

गया के डीएम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक इन चार शहरों में पटाखे बैन किए गए.
गया के डीएम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक इन चार शहरों में पटाखे बैन किए गए.

सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों के तीन सबसे प्रदूषित शहरों में पटाखों की बिक्री और उसके उपयोग पर रोक लगाने का निर्देश जारी किया है. इस आदेश का पालन करते हुए डीएम ने गया, बोधगया, टिकारी और शेरघाटी में सिर्फ ग्रीन पटाखे के उपयोग की इजाजत दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 6:00 PM IST
  • Share this:
गया. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की गाइडलाइन के बाद दिवाली के दौरान गया शहर के साथ ही बोधगया, टिकारी और शेरघाटी शहर में पटाखों की बिक्री और उपयोग पर रोक लगा दी गई है. इस संबंध में न्यूज18 से डीएम अभिषेक सिंह ने कहा कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) के आदेश के आलोक में सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों के तीन सबसे प्रदूषित शहरों में पटाखों की बिक्री और उसके उपयोग पर रोक लगाने का निर्देश जारी किया है. सुप्रीम कोर्ट के इस निर्देश के आलोक में गया जिले के चार प्रमुख शहरों में पटाखा की बिक्री और उसके उपयोग पर रोक लगा दी गई है. इस इलाके में सिर्फ ग्रीन पटाखे का ही उपयोग किया जा सकेगा और इस ग्रीन पटाखे की बिक्री सर्टिफाइड एजेंसी ही कर सकती है. प्रतिबंधित पटाखा की बिक्री करने पर जिला प्रशासन द्वारा संबंधित दुकानदारों पर कार्रवाई की जाएगी. ग्रामीण क्षेत्र में 125 डेसीबल से ज्यादा आवाज करने वाले पटाखे का उपयोग नहीं किया जा सकेगा. पटाखा पर प्रतिबंध का आदेश जारी करते हुए डीएम ने जिलावासियों से सहयोग की अपील की है ताकि ठंड के मौसम में होने वाले प्रदूषण का लेवल ज्यादा न हो.

वोकल फॉर लोकल पर जोर

पटाखा की बिक्री पर रोक लगाने के साथ ही डीएम अभिषेक सिंह ने आमलोगों से पीएम नरेंद्र मोदी के वोकल फॉर लोकल पर जोर देने की अपील की है. इसमें कुम्हार द्वारा बनाए गए मिट्टी के दीप और स्थानीय स्तर पर तैयार पूजा और अन्य सामग्री के उपयोग करने की जरूरत पर बल दिया है. मिट्टी के दीप अधिकाधिक संख्या में खरीदे जाने पर कई गरीब परिवार भी दो पैसे का उपार्जन कर अपने घर को रोशन कर सकता है. पीएम मोदी के इस आह्वान पर चाइनीज बल्ब के मुकाबले लोग मिट्टी के दीप की खरीदारी ज्यादा कर रहे हैं.



स्वच्छता रैंकिंग में खराब प्रदर्शन की वजह से पटाखे पर बैन
दरअसल इस का स्वच्छता रैकिंग में गया नगर निगम क्षेत्र को सबसे प्रदूषित शहर के रूप में गिना गया था. इसके लिए नगर निमग और जिला प्रशासन पर कई तरह के सवाल उठे थे. इस खराब रैंकिग पर को लेकर नगर निगम के अधिकारियों ने स्पष्टीकरण देते हुए कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से डाटा इंट्री सही तरीके से नहीं करने को वजह बताया था. इसके लिए कई कर्मचारियों पर कार्रवाई भी की गई थी. पर इस खराब रैंकिग की वजह से जिला प्रशासन ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए दीपावली के दौरान पटाखा की बिक्री पर रोक लगा दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज