अपना शहर चुनें

States

गया: चर्चित तनीषा हत्याकांड में दोषी को ताउम्र कैद की सजा, 2 साल बाद आया कोर्ट का फैसला

पीड़ित परिवार ने कोर्ट के फैसले पर असंतोष जताया है. और हाईकोर्ट में अपील करने की बात कही
पीड़ित परिवार ने कोर्ट के फैसले पर असंतोष जताया है. और हाईकोर्ट में अपील करने की बात कही

पीड़ित मां ने कोर्ट (Court) के फैसले पर असंतोष जताते हुए कहा कि आज अगर उनकी बच्ची जिंदा होती तो 10 साल की होती. लेकिन दोषी ने घिनौनी हरकत करते हुए उसे मौत की नींद सुला दी. दोषी (Convicted) को हर हाल में फांसी होनी चाहिए.

  • Share this:
गया. चर्चित तनु उर्फ तनीषा हत्याकांड में दोषी छोटू रबानी को ताउम्र कारावास (Life Imprisonment) की सजा सुनाई गई है. अपहरण के बाद रेप और हत्या (Rape & Murder) के इस मामले में एडीजे-6 सह पॉक्सो कोर्ट ने दोषी को अलग-अलग धाराओं में ये सजा सुनाई है. साथ ही 37 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. कोर्ट ने इस मामले में पिछले महीने आरोपी छोटी रबानी को दोषी करार दिया था. और सजा के बिंदु पर बहस के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था.

सरकार की तरफ से इस मामले में पैरवी करने वाले स्पेशल पीपी कैसर शर्फुद्दीन ने बताया कि यह केस काफी चर्चित हुआ था. बहस के दौरान उनलोगों ने दोषी के लिए फांसी की मांग की थी, पर कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई. बतौर पीपी पीड़ित परिवार से सलाह के बाद वो इस मामले में ऊपरी अदालत में अपील करेंगे.

इस मामले में कुल 22 गवाहों को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया. वहीं दोषी के के वकील ललित कुमार गुप्ता ने कोर्ट के फैसले पर असंतोष जाहिर करते हुए हाईकोर्ट में अपील करने की बात कही है.



हाईकोर्ट में अपील करेगा पीड़ित परिवार 
मृतक बच्ची की मां ने कोर्ट के फैसले पर असंतोष जताते हुए कहा कि आज उनकी बच्ची अगर जिंदा होती तो 10 साल की होती. लेकिन दोषी ने उनकी बच्ची के साथ घिनौनी हरकत करते हुए उसे मौत की नींद सुला दी. दोषी को हर हाल में फांसी होनी चाहिए, तभी जाकर बच्ची की आत्मा को शांति मिलेगी. निचली अदालत के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील करेंगे.

पीड़ित पिता ने कहा कि एक बड़े राजनेता की शह की वजह से आरोपी को पुलिस ने भरपूर मदद करने की कोशिश की. लेकिन इस जघन्य मामले के खिलाफ पूरे शहर के लोग न्याय के लिए सड़क पर उतर गये थे. उनकी मांग है कि दोषी को सजा मिलने के बाद पुलिस आन्दोलनकारियों पर दर्ज केस को वापस ले.

अगवा कर रेप के बाद बच्ची की कर दी गई थी हत्या 

बता दें कि फरवरी 2018 में गया के रामपुर थाना इलाके के गेवाल बिगहा में छोटू रबानी ने एक बच्ची और दो बच्चे का अपहरण कर लिया था. सभी को गया-बोधगया के रीवर साइड रोड के किनारे हाथ-पैर बांध कर रखा था. दूसरे दिन अहले एक बच्चा किसी तरह वहां से भाग निकला और स्थानीय लोगों के सहयोग से परिवार तक पहुंचा. दूसरा बच्चा घायल अवस्था में झाड़ी के पास मिला. जबकि काफी खोजबीन के बाद बच्ची का शव बोरे में लिपटा हुआ डीएम आवास के पीछे झाड़ी में फेंका हुआ मिला था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या की पुष्टि हुई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज