गया हत्याकांड: इन वजहों से संदिग्ध लग रही है पुलिस की भूमिका

6 जनवरी को नाबालिग का क्षत-विक्षत शव घर और थाना के बीच में बरामद हुआ. उसके सिर और धड़ दोनों ही अलग थे, उसके हाथ काट दिए गए थे और पहचान मिटाने के खयाल से उसके चेहरे पर तेजाब डाल दिया गया था.

News18 Bihar
Updated: January 12, 2019, 1:54 PM IST
गया हत्याकांड: इन वजहों से संदिग्ध लग रही है पुलिस की भूमिका
गया हत्याकांड
News18 Bihar
Updated: January 12, 2019, 1:54 PM IST
गया में नाबालिग लड़की हत्या कांड में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाते हुए भाकपा माले की टीम ने पुलिस पर अपनी कमियों छिपाने के लिए मनमाने ढंग से केस को डायवर्ट करने का आरोप लगाया है. वह मामले की सीबीआई या न्यायिक जांच कराने की मांग कर रही है. दरअसल, इस हत्याकांड में तारीख दर तारीख की विभिन्न पहलुओं और पुलिस की कार्यशैली पर नजर डालें तो 28 दिसंबर को मृतका के लापता होने के बाद से ही उसकी भूमिका संदिग्ध लग रही है.

बता दें कि मृतका 28 दिसंबर की शाम से लापता थी. काफी खोजबीन के बाद परिजन बुनियादगंज थाना पहुंचे और मामला दर्ज करवाना चाहा. लेकिन आरोप है कि पुलिस ने मामला दर्ज करने में बहानेबाजी करते हुए परिजनों को लौटा दिया. मानपुर के पटवा समाज के लोगों ने जब दबाव बनाया तो पुलिस अधीक्षक के निर्देश  4 जनवरी को गुमशुदगी की एफआईआर नहीं, सिर्फ सनहा दर्ज किया गया. जाहिर है पुलिस ने इस मामले में अपनी गंभीरता नहीं दिखाई.

6 जनवरी को नाबालिग का क्षत-विक्षत शव घर और थाना के बीच में बरामद हुआ. उसके सिर और धड़ दोनों ही अलग थे, उसके हाथ काट दिए गए थे और पहचान मिटाने के खयाल से उसके चेहरे पर तेजाब डाल दिया गया था, बावजूद इसके पुलिस ने सिर्फ केस भर दर्ज किया और छानबीन में ढिलाई बरती.



मृतक के पिता ने आरोप लगाया कि रेप के बाद उसके बेटी की हत्या कर दी गई, जिसमें धारदार हथियार के साथ ही एसिड का प्रयोग किया गया है. बार-बार गुहार लगाने के बाद भी पुलिस ने उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और उल्टा माता-पिता को ही गिरफ्तार कर लिया.

मृतका की बड़ी बहन ने सीधा आरोप लगाया है कि पुलिस ने उनसे जबरन यह बयान दिलवाया है कि 31 जनवरी को उसकी बहन वापस घर लौटी और उसके बाद वह फिर गायब हो गई. अब पुलिस इसी बात को आधार बनाकर इसे ऑनर किलिंग बता रही है.



सवाल उठता है कि पहले तो मृतका की बड़ी बहन उसके लौटने से इनकार कर रही है और कह रही है कि पुलिस ने उससे जबरन बयान दिलवाया है. दूसरा यह कि इस आधार पर कि मृतका वापस घर लौटी थी और उसके बाद फिर वह चली गई, पुलिस इसे ऑनर किलिंग कैसे बता सकती है?
Loading...

रिपोर्ट- विजय झा

ये भी पढ़ें- 

गया में गैंगरेप-मर्डर या ऑनर किलिंग? मृतक लड़की के माता-पिता गिरफ्तार

गया हत्याकांड: लेफ्ट पार्टियों ने की CBI जांच की मांग

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...