गया हत्याकांड: सावधान! अगर आपका नाम 'पिंटू' है तो पुलिस आपको आधी रात को भी उठा लेगी

गया पुलिस ने पिंटू कुमार नाम के तीन युवकों को जबरन बंद कर रखा है. इन तीनों युवकों के परिजन कह रहे हैं कि सिर्फ पिंटू नाम होने के कारण ही उन्हें पुलिस ने हिरासत में रखा है.

Vijay jha | News18 Bihar
Updated: January 12, 2019, 7:50 PM IST
गया हत्याकांड: सावधान! अगर आपका नाम 'पिंटू' है तो पुलिस आपको आधी रात को भी उठा लेगी
वजीरगंज कैंप के डीएसपी अभिजीत कुमार सिंह
Vijay jha | News18 Bihar
Updated: January 12, 2019, 7:50 PM IST
गया के पटवा टोली इलाके को लोग इस बात से खौफ के साये में जी रहे हैं कि कहीं कोई उनका नाम पिंटू न बता दे. दरअसल आज कल पुलिस पिंटू नाम के किसी भी व्यक्ति को आधी रात को भी उठा ले जाती है. बिना किसी अपराध, बिना किसी सबूत के वह हाजत में बंद कर दिया जा रहा है. अब तक पिंटू नाम के तीन शख्स को गया पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है.

दरअसल, गया हत्याकांड में मृतका की बड़ी बहन का आरोप है कि पुलिस ने उसे डराया, धमकाया और जबरन एक नवयुवक पिंटू कुमार का नाम बुलवाया. इसके बाद पिता के एक दोस्त लीला पटवा का नाम उसने पुलिस दबाव में बोला था. लीला पटवा पर नाबालिग लड़की की हत्या करने का आरोप लगाया गया है.

ये भी पढ़ें- अपने ही पिता के खिलाफ धरना पर बैठेंगी रामविलास पासवान की बेटी, पढ़ें पूरी खबर

अब पुलिस ने लीला पटवा को गिरफ्तार कर उसका चालान भी कर दिया है और उसे जेल भेज दिया है. वहीं पिंटू कुमार नाम के तीन युवकों को पुलिस ने जबरन बंद कर रखा है. इन तीनों युवकों के परिजन कह रहे हैं कि सिर्फ पिंटू नाम होने के कारण ही उन्हें पुलिस ने हिरासत में रखा है.

आपको बता दें कि ज्ञानचंद प्रसाद सिंह के शादीशुदा बेटे 28 साल के पिंटू पटवा टोली में किराए पर दूसरे तल्ले पर रहते हैं. उनके घर में पुलिस सीढ़ी लगाकर रात में घुसी. पत्नी के साथ कमरे में सो रहे पिंटू कुमार को पकड़ कर ले गई. पत्नी मुन्नी देवी का रो-रो कर बुरा हाल है. वह कह रही है कि बेकसूर उसके पति को पुलिस उठा ले गई.

ये भी पढ़ें- गया हत्याकांड: पहले लेडी कांस्टेबल और DSP साहब ने मुझे पीटा फिर जबरन बयान लिखवाया

दूसरा मामला स्वर्गीय लालमुनि प्रसाद के बेटे पिंटू कुमार का है. 23 साल के पिंटू पत्नी किरण कुमारी ने बताया कि पुलिस चोर दरवाजे से घुसी और पति को पकड़ ले गई. वह न्यूज18 से गुहार लगा रही है कि उसका पति बेकसूर है और किसी भी हाल में उसको छुड़वा दीजिए. जाहिर है उसे आज भी पत्रकारों पर विश्वास है और पुलिस पर नहीं. सबसे खास ये है कि ये दोनों ही पटवा टोली में लूम पर मजदूरी का काम करते हैं.
Loading...

तीसरा मामला भी पिंटू कुमार का है जो महज 16 साल का है. पुलिस ने इसे ही सबसे पहले पकड़ा और अपने साथ उठा ले गई. आज तक वह पुलिस ने पकड़ रखा है. यह पिंटू महज 16 साल का है इसलिए हम अपनी जिम्मेदारी समझते हुए इनके पिता का नाम नहीं बता रहे हैं. लेकिन इन मामलों से साफ है फिलहाल पटवा टोली में किसी ने भी अपना नाम गलती से भी पिंटू बता दिया तो वह पुलिस हाजत में होगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर