लाइव टीवी

गया हत्याकांड: ऑनर किलिंग के जिम्मेदार 'मिस्ट्री ब्वॉय' को अब तक नहीं ढूंढ सकी पुलिस

Vijay jha | News18 Bihar
Updated: January 12, 2019, 1:56 PM IST
गया हत्याकांड: ऑनर किलिंग के जिम्मेदार 'मिस्ट्री ब्वॉय' को अब तक नहीं ढूंढ सकी पुलिस
घटना के विरोध में उतरे लोग

स्थानीय लोगों का साफ कहना है कि वह बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखती है इसलिए यहां ऑनर किलिंग जैसी कोई बात हो ही नहीं सकती.

  • Share this:
गया हत्याकांड में एक ओर पुलिस के ऑनर किलिंग वाले बयान के बाद लोग पटवा समाज के लोग सड़क पर उतर आए हैं, वहीं पुलिस की भूमिका संदेह के घेरे में है. दरअसल पुलिस की थ्योरी के अनुसार यह ऑनर किलिंग है, लेकिन वह लड़का कौन है, जिसके साथ मृतका का प्रेम प्रसंग था, पुलिस यह बात नहीं बता रही.

न्यूज 18 की टीम ने जब आस-पड़ोस में रहने वाले लोगों से इस मामले में पूछताछ की तो पहले तो कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं हुए. अगर बोले तो सिर्फ इतना कि पुलिस बेगुनाहों को फंसाकर असल दोषियों को बचाने में लगी है. मृतका के बारे बारे में स्थानीय लोग किसी भी तरह के प्रेम-प्रसंग के मामले को निराधार बता रहे हैं.

ये भी पढ़ें- लालू के जेल में रहने के चलते लगातार दूसरे साल भी रद्द हुआ राजद का चूड़ा-दही भोज

स्थानीय लोगों का साफ कहना है कि वह बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखती है इसलिए यहां ऑनर किलिंग जैसी कोई बात हो ही नहीं सकती. माता-पिता भी मजदूरी कर अपना जीवन यापन करते हैं और इस समाज में ऑनर किलिंग जैसी कोई वारदात पहले कभी हुई ही नहीं.

न्यूज 18 की टीम ने जब स्पॉट पर जाकर पड़ताल की तो पुलिस की थ्योरी में दम नजर नहीं आ रहा है. दरअसल जिस बाप पर अपनी बेटी को मारने का इल्जाम लगाया गया है, आखिर वह अपनी बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाने के लिए थाने के चक्कर क्यों लगाता रहा? पुलिस द्वारा बहानेबाजी करने के बाद भी वह पिता क्यों गुहार लगाता रहा? 28 दिसंबर से 4 जनवरी तक आखिर पुलिस ने गंभीरता क्यों नहीं दिखाई? दबाव बढ़ा तब एसपी के निर्देश पर एफआईआर नहीं बल्कि सनहा क्यों दर्ज किया गया?

ये भी पढ़ें- गया हत्याकांड: इन वजहों से संदिग्ध लग रही है पुलिस की भूमिका

पुलिस की थ्योरी इसलिए भी उलझी हुई है कि ऑनर किलिंग में कोई न कोई प्रेम-प्रसंग का मामला सामने आता है, लेकिन यहां भी पुलिस अब तक उस मिस्ट्री ब्वॉय को ढूंढ नहीं पाई है जिसके आधार पर पुलिस इसे ऑनर किलिंग बता रही है. जाहिर है पुलिस की थ्योरी और जमीनी हकीकत में जमीन आसमान का अंतर है.
Loading...

पटवा समाज का कहना है कि जब गुनहगारों को पकड़ने का दबाव बढ़ा और लोगों ने कैंडल मार्च निकाला तो पुलिस ने आनन-फानन में कहानी गढ़ी और उसी गरीब परिवार को फंसा दिया जो पीड़ित है. आज पटवा समाज और जिला प्रशासन की मुलाकात हुई जिसमें डीएम अभिषेक कुमार सिंह ने लोगों को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 12, 2019, 1:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...