स्टूडेंट बनकर किराये पर लिया कमरा फिर दुकान का ताला तोड़ उड़ाए 6 लाख के मोबाइल फोन्स

बिहार के गया में हुई चोरी की घटना का खुलासा करते एसपी

बिहार के गया में हुई चोरी की घटना का खुलासा करते एसपी

Gaya Local News: बिहार के गया में हुई इस घटना का खुलासा करने में सीसीटीवी से अहम मदद मिली है. पुलिस ने इस दौरान 56 पीस मोबाइल भी बरामद कर लिया है.

  • Share this:

गया. बिहार की गया (Gaya) पुलिस ने एक ऐसे आपराधिक गिरोह का खुलासा किया है जो छात्र बनकर किराये का मकान लेता था और अपराध की घटना को अंजाम देता था. दरअसल विष्णुपद थाना क्षेत्र के बाईपास रोड स्थित घुघरीटांड़ मोहल्ले में 26 दिसंबर को मोबाइल शोरूम (Mobile Show Room) में चोरी की घटना हुई थी जिसका पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पुलिस ने चोरी हुई मोबाइल के साथ 3 चोरों को भी गिरफ्तार किया है, हालांकि इस घटना में 5 लोग शामिल थे जिसमें से दो को पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही है.

26 दिसंबर की रात अज्ञात चोरों द्वारा आर.एस एंटरप्राइजेज नामक मोबाइल शोरूम से 6 लाख के विभिन्न कंपनियों के मोबाइल, चार्जर और टैब की चोरी कर ली गई थी, जिसकी पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई थी. सभी चोर किराए के मकान में रहकर चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे. सिटी एसपी राकेश कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया को इसकी जानकारी दी. सिटी एसपी राकेश कुमार ने बताया कि 26 दिसंबर की रात्रि में अज्ञात चोरों द्वारा मोबाइल शोरूम का शटर काटकर लगभग 6 लाख की कीमत के 67 पीस मोबाइल, फोन चार्जर एवं एंड पार्ट्स सामग्री की चोरी कर दी गई थी.

इस कांड के उदभेदन के लिए एक टीम बनाकर छापेमारी की गई जिसमें 56 पीस मोबाइल के साथ तीन शातिर चोरों को गिरफ्तार कर लिया गया. उन्होंने बताया कि चोरी की घटना में पांच लोग शामिल थे जिसमें से तीन चोर को गिरफ्तार कर लिया गया है, बाकी दो चोरों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है. उन्होंने यह भी बताया कि यह चोर मोहनपुर थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं और गया में छात्र बनकर किराए के मकान में रह कर चोरी की घटनाओं को अंजाम देता था.

चोरी की घटना के पहले जहां चोरी करने का प्लान बनाते थे वहां पर कुछ दिनों के लिए रेकी करते थे और मौका मिलते ही तो चोरी घटनाओं को अंजाम देते थे. फिलहाल इनके अपराधिक इतिहास के बारे में खंगाला जा रहा है. उन्होंने लोगों से यह भी अपील किया कि जो लोग भी मकान मालिक किराए के मकान देते हैं उसका पूरी तरह से जांच कर ले उसके बाद ही किराए के मकान पर दें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज