पटना एयरपोर्ट से अगवा कारोबारी गया से बरामद, ये थी किडनैपिंग की वजह

मितेश मूल रूप से बिहार के कटिहार जिला का रहने वाला है और वो मुंबई में रहकर कपंनी का नेटवर्किंग चला रहा था. मितेश मुबंई से पटना रविवार को आया था.

News18 Bihar
Updated: July 29, 2019, 5:06 PM IST
पटना एयरपोर्ट से अगवा कारोबारी गया से बरामद, ये थी किडनैपिंग की वजह
गया पुलिस द्वारा बरामद किया गया मितेश
News18 Bihar
Updated: July 29, 2019, 5:06 PM IST
गया पुलिस ने अपहरण के एक मामले का खुलासा किया है. पुलिस ने पटना से अपहृत मितेश अग्रवाल को गया के खिजरसराय से बरामद कर लिया है और अपहरण के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. खुद को अपहृत बताने वाला मितेश अग्रवाल दरअसल में आरएमसीएल कंपनी का एमडी है और उसका अपहरण करने वाले तीनों आरोपी उसकी कंपनी की ठगी का शिकार हैं, जिन्होंने अपनी राशि की वसूली  के लिए उसे पकड़ लिया था. खिजरसराय पुलिस ने मितेश अग्रवाल और तीनों युवकों को पटना की गर्दनीबाग पुलिस के हवाले कर दिया है. अब गर्दनीबाग पुलिस पूरे मामले की छानबीन में जुट गई है.

मिली जानकारी के अनुसार मितेश अग्रवाल अपनी कंपनी आरएमसीएल यानी राममाधव कंपनी लिमिटेड के नेटवर्क के कई लोगों को करो़ड़ों का चूना लगा चुका है. कम समय में ज्यादा रिटर्न देने के नाम पर उसकी कंपनी ने समूचे बिहार एवं देश के अन्य राज्यों से पैसा जमा करवा लिया आर फिर वह फरार हो गया.

जब खिजरसराय पुलिस मितेश अग्रवाल को थाना पर लायी तो निवेशक थाना पर पहुंच गये और हंगामा करते हुए जमा पैसे की वापसी और मितेश पर कार्रवाई की मांग करने लगे. इस मामले में जिला के एसएसपी राजीव मिश्रा ने कहा कि मितेश पर उनके जिला के किसी भी थाना में कोई मामला दर्ज नहीं है और खिजरसराय पुलिस ने गर्दनीबाग पुलिस की अमितेश के अपहरण की सूचना पर कार्रवाई
की है, इसलिए मितेश और अपहरण के तीन आरोपियों को गर्दनीबाग पुलिस के हवाले कर दिया गया है.

दरअसल मितेश मूल रूप से बिहार के कटिहार जिला का रहने वाला है और वो मुंबई में रहकर कपंनी का नेटवर्किंग चला रहा था. मितेश मुबंई से पटना रविवार को आया था जिसकी जानकारी कुछ निवेशकों को मिली और तीन लोगों ने उसे पटना एयरपोर्ट के पास से ही अपहरण कर लिया ताकि वह अपने पैसे की वसूली कर सके. इस बीच अमितेश के अपहरण की खबर परिजनों ने गर्दनीबाग थाना को दी जिसके बाद यह कार्रवाई हुई है.

अमितेश के फर्जीवाड़ा के बारे में अखबारों में पहले ही कई बार खबरें छप चुकी हैं जिसमें मितेश पर दमन और दीव में एसबीआई एवं बैंक ऑफ बड़ौदा को 400 करोड़ का चुना लगाने की बात कही गई है. मितेश ने यह कंपनी वर्ष 2000 में शुरू की थी. शुरू मे यह कपंनी पैकेजिंग का काम करती थी पर बाद में यह नेटवर्किंग का काम करने लगी.उसने देश भर में एजेंट बना लिया. एजेंट के जरिये वो निवेशकों से 2.25 लाख जमा करवाता था और 24 माह तक 24 हजार रूपये देने का प्रलोभन देता था.

रिपोर्ट- अरूण चौरसिया
Loading...

ये भी पढ़ें- JDU बोली- अच्छा होता अगर पीएम बाढ़ के बारे में बोलते

ये भी पढ़ें- मिर्ची पाउडर फेंककर व्यवसायी से लूटे 14 लाख रुपए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 3:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...