लाइव टीवी

शिफ्टिंग के बाद परेशानी, संक्रामक अस्पताल में मरीजों के बेड लगाने की भी जगह नहीं
Gaya News in Hindi

arun kumar | News18Hindi
Updated: February 22, 2020, 9:34 PM IST
शिफ्टिंग के बाद परेशानी, संक्रामक अस्पताल में मरीजों के बेड लगाने की भी जगह नहीं
यहां पर बेड तक लगाना मुश्किल है. डॉक्टर खुले परिसर में आउटडोर चला रहे हैं.

अस्पताल के प्रभारी विजय कुमार ने बताया कि शिफ्टिंग के करीब एक महीना होने के बाद भी 70 फीसदी समान चांदचौरा स्थित पुराने अस्पताल की बिल्डिंग में पड़ा हुआ है क्योंकि प्रभावती अस्पताल परिसर के आवंटित फ्लैट में जगह काफी नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2020, 9:34 PM IST
  • Share this:
गया. गया में संक्रामक अस्पताल जब से अपने 7 एकड़ के परिसर से शिफ्ट हुआ है तब से यहां पर न केवल कर्मचारी ही परेशान है बल्कि मरीजों की भी मूसीब आ गई है. दक्षिण बिहार और झारखंड से आने वाले मरीजों के लिए अंग्रेजों के जमाने पर बनाया गया अस्पताल अब प्रभावती अस्पताल के एक छोटे से फ्लैट में शिफ्ट कर दिया गया है.

सरकार के आदेश के बाद हुआ शिफ्ट
बिहार सरकार के आदेश पर 26 जनवरी 2020 के बाद इसे प्रभावती अस्पताल के अधीक्षक के पुराने आवास में शिफ्ट कर दिया गया है. नई जगह में शिफ्ट होने के बाद दस साल से साफ-सफाई करने वाली 8 महिलाकर्मियों को काम से हटा दिया गया है. बुजुर्ग महिला सफाईकर्मी उर्मिला देवी ने बताया कि 10 साल से ज्यादा समय तक उन्होंने यहां काम किया अब जब परिसर बदल गया तो उन्हें एकाएक हटा दिया गया. रोजी-रोटी की समस्या खड़ी हो गई है.

सामान भी नहीं ला सकते



अस्पताल के प्रभारी विजय कुमार ने बताया कि शिफ्टिंग के करीब एक महीना होने के बाद भी 70 फीसदी समान चांदचौरा स्थित पुराने अस्पताल की बिल्डिंग में पड़ा हुआ है क्योंकि प्रभावती अस्पताल परिसर के आवंटित फ्लैट में जगह काफी नहीं है. यहां पर बेड तक लगाना मुश्किल है. डॉक्टर खुले परिसर में आउटडोर चला रहे हैं.



परिसर के हाल खस्ता
जिस छात्रावास के ग्राउंड फ्लोर को इस अस्पताल के लिए दिया गया है उसकी दीवारें कई जगह दरकी हुई हैं. इसी छात्रावास के प्रथम तल पर एएनएम ट्रेनिंग सेंटर का लैब स्थापित है. इस भवन में संक्रामक रोग अस्पताल के आने से एएऩएम की छात्रायें यहां भर्ती मरीज से खुद संक्रमित होने की आशंका जता रही हैं।वहीं इस संबंध मे सर्जन ब्रजेश कुमार सिंह ने कहा कि संक्रामक रोग अस्पताल के कर्मियों को हो रही परेशानी को लेकर उन्होंने विभाग को पत्र लिखा है और वे खुद भी अपने स्तर से अतिरिक्त जगह देने का विकल्प ढूंढ रहें हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 22, 2020, 9:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading