लाइव टीवी

Delhi Assembly Election: वोटिंग से पहले ही हार मान गई ये पार्टी, कहा- केजरीवाल फिर दर्ज करेंगे बड़ी जीत
Gaya News in Hindi

arun kumar | News18Hindi
Updated: February 7, 2020, 6:28 PM IST
Delhi Assembly Election: वोटिंग से पहले ही हार मान गई ये पार्टी, कहा- केजरीवाल फिर दर्ज करेंगे बड़ी जीत
सीएम केजरीवाल (File Photo)

दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ रही एक पार्टी ने वोटिंग से पहले ही अपनी हार मान ली है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा है कि दिल्ली में चुनावी माहौल देखकर लगता है कि बेहतर काम के आधार पर अरविंद केजरीवाल की पार्टी फिर से भारी बहुमत से चुनाव जीत रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 7, 2020, 6:28 PM IST
  • Share this:
गया. अभी दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) की वोटिंग में ही एक दिन बाकि है और इससे पहले ही हम पार्टी के नेता और बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने हार मान ली है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की आम आदमी पार्टी एक बार फिर भारी बहुमत से जीतेगी और अरविंद फिर सीएम बनेंगे.

गया में अपने आवास पर न्यूज 18 से बात करते हुए मांझी ने कहा कि उनकी पार्टी दिल्ली की दो सीटों पर सीएम अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के खिलाफ सिर्फ प्रतीकात्मक चुनाव लड़ रही है. दिल्ली में चुनावी माहौल देखकर उन्हें लगता है कि बेहतर काम के आधार पर अरविंद केजरीवाल की पार्टी फिर से भारी बहुमत से चुनाव जीत रही है और पिछले चुनाव की तरह ही इस बार भी भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ेगा. इसके लिए उन्होंने भाजपा की नीतीयों पर सवाल उठाते हुए कहा कि विकास की बात करने वाली पार्टी भाजपा अब सिर्फ भावनात्मक मुद्दों के साथ चुनावी मैदान को जीतना चाह रही है.

हड़ताल का किया समर्थन
वहीं बिहार में चल रहे नगर निकाय कर्मियों की हड़ताल का समर्थन करते हुए पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार आउटसोर्सिंग के जरिए वर्तमान आरक्षण व्यवस्था को परोक्ष रूप से खत्म कर रही है. इसका विरोध होना स्वाभाविक है.

उन्होंने कहा कि साफ-सफाई का काम मुख्य रूप से महादलित समाज के लोग करते हैं और महादलित के हितैषी होना का दावा करने वाली नीतीश सरकार ने एक झटके में हजारों लोगों को काम से हटाने का आदेश जारी कर दिया. इस मामले में सीएम नीतीश कुमार को तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए और कई सालों से काम कर रहे दैनिक मजदूरों को बेहतर सुविधा दिलाते हुए उन्हें स्थाई कर देना चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने चिंता व्यक्त की कि यदि दो चार दिन में हड़ताल का समाधान नहीं निकाला गया तो पूरे बिहार में गंदगी से महामारी की स्थिति उत्पन्न हो जाएगी.

सीएए और एनआरसी पर भी केंद्र को लिया आड़े हाथ
जीतनराम मांझी ने सीएए, एनपीआर और एनआरसी के मुद्दे पर भी केन्द्र और राज्य सरकार के खिलाफ निशाना साधते हुए कहा कि इस मुद्दे पर विरोध करने वाले के खिलाफ केस दर्ज कर डराया जा रहा रहा है. डाकबंगला चौराहा पर विरोध प्रदर्शन में शामिल होने पर उनके साथ ही उपेन्द्र कुशवाहा,पप्पु यादव समेत कई नेताओं पर एफआईआर दर्ज की गई है और अन्य जगहों पर भी लोगों के खिलाफ मामले दर्ज हुए हैं. लेकिन वे लोग डरने जगह और मुस्तैदी से इस कानून का विरोध करेगें. अगर सरकार इस मुद्दे पर दमनकारी कार्रवाई करती है तो मामला ज्यादा बिगड़ सकता है.उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर गया के गांधी मैदान से पटना के गांधी मैदान तक जानेवाली गांधी मार्च में भी वे शामिल होगें. इसके साथ ही मांझी ने जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के 11 फरवरी को अपने इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में ​दौरे का भी स्वागत किया है और इस सभा में लोगों से आने की अपील की है.

ये भी पढ़ेंः कन्हैया कुमार के काफिले पर हमला, नारेबाजी कर फेंके जूते-चप्पल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 7, 2020, 5:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर