अपना शहर चुनें

States

लक्षद्वीप के प्रशासक और पूर्व आईबी चीफ दिनेश्वर शर्मा का चेन्नई में निधन, गया के विष्णुपद घाट पर होगा अंतिम संस्कार

दिनेश्वर शर्मा को अक्टूबर 2019 में लक्षद्वीप का प्रशासक नियुक्त किया गया था.
दिनेश्वर शर्मा को अक्टूबर 2019 में लक्षद्वीप का प्रशासक नियुक्त किया गया था.

दिवंगत दिनेश्वर शर्मा (Dineshwar Sharma) मूल रूप से बिहार के गया जिले के बंलागंज के पाली गांव के रहने वाले थे. शनिवार को उनका गया के विष्णुपद घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा.

  • Share this:
गया. लक्षद्वीप के प्रशासक और भारतीय खुफिया विभाग के पूर्व प्रमुख दिनेश्वर शर्मा (Dineshwar Sharma) का इलाज के दौरान निधन (Demise) हो गया. वे लंबे समय से फेफड़े में संक्रमण की बीमारी से ग्रस्त थे. दिल्ली के एम्स में इलाज के बाद चेन्नई के एक अस्पताल में उनका इलाज चला रहा था, जहां उऩ्होंने शुक्रवार को अंतिम सांस ली.

बिहार के गया के रहने वाले थे दिवगंत शर्मा

दिवंगत दिनेश्वर शर्मा मूल रूप से बिहार के गया जिले के बंलागंज के पाली गांव के रहने वाले थे. वे चार भाई और तीन बहनों में सबसे छोटे थे. स्वर्गीय शर्मा अपने पीछे पत्नी मंजू शर्मा, एक पुत्र, एक पुत्री एवं दो नाती समेत भरा-पूरा परिवार छोड़ गए. चेन्नई में निधन के बाद उनका पार्थिव दिल्ली के रास्ते शनिवार को गया स्थित पैतृक आवास लगाया जायेगा. फिर फल्गु नदी के तट पर स्थित ऐतिहासिक विष्णुपद शमशान घाट पर अंतिम संस्कार किया जायेगा.



स्वर्गीय शर्मा बिहार के पूर्व डीजीपी अभयानंद के समधी थे. अभयानंद की बेटी और स्व शर्मा के बेटे की शादी हुई है. वहीं भाजपा नेता और केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के रिश्ते में वे बहनोई लगते थे. शर्मा के बड़े भाई की शादी गिरिराज सिंह की बहन से हुई है.
न्यूज 18 से बात करते हुए उनके भतीजे संतोष कुमार ने बताया कि आईबी चीफ से लेकर लक्षद्वीप के उपराज्यपाल तक का पद संभालने के बाद भी उनमें किसी तरह का अंहकार नहीं था. वे बिना किसी सुरक्षा तामझाम के घर आते थे और खेत-खलिहान घूमा करते थे.

1979 में पुलिस सेवा में हुआ था चयन

23 मार्च 1954 को जन्मे शर्मा ने प्रारंभिक शिक्षा गांव के स्कूल से पूरी की. बोधगया स्थित मगध विश्वविद्यालय से स्नातक किया था. और साल 1979 में भारतीय पुलिस सेवा के लिए चुने गये. उन्हें केरल कैडर मिला था. केरल के कई जिलों में एसपी रहने के बाद वे हैदराबाद स्थित सरदार बल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी में वरीय पुलिस अधीक्षक के रूप में पदस्थापित हुए. फिर जम्मू कश्मीर में बीएसएफ के डीआईजी और सीआरपीएफ के आईजी के रूप में भी बेहतर काम किया. उसके बाद बीएसएफ के डिप्टी डायरेक्टर रहने के बाद 1991 में आईबी में शामिल हुए और डिप्टी डायरेक्टर, एडिशनल डायरेक्टर के पद पर कार्य करते हुए आईबी चीफ बने. उन्होंने 2014-16 तक आईबी के 25वें निदेशक के रूप में काम किया.

भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर में वार्ताकार नियुक्त किया था 

दिवंगत शर्मा के काम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी काफी प्रभावित थे. इसिलए भारतीय पुलिस सेवा से रिटायर्ड होने के बाद 5 अगस्त 2019 को भारत सरकार ने उन्हें जम्मू-कश्मीर में वार्ताकार नियुक्त किया था. जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने की भूमिका बनाने में शर्मा का विशेष योगदान रहा. भारत सरकार ने उन्हें अक्टूबर 2019 में लक्षद्वीप का प्रशासक नियुक्त किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज