होम /न्यूज /बिहार /Magadh University: जिसके चक्कर में दो साल से रुके थे एग्जाम, अब मिला वह पासवर्ड! अब तैयार हो जाएं स्टूडेंट

Magadh University: जिसके चक्कर में दो साल से रुके थे एग्जाम, अब मिला वह पासवर्ड! अब तैयार हो जाएं स्टूडेंट

ये है मगध यूनिवर्सिटी का हाल, छात्र दो साल से इंतज़ार कर रहे हैं कि परीक्षा अब होगी कि तब. क्या आप सोच सकते हैं कि एक क ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट – कुंदन कुमार

    गया: बिहार के गया स्थित मगध विश्वविद्यालय में पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए इंतजार की घड़ी अब खत्म होने वाली है. विश्वविद्यालय में एक पासवर्ड के कारण छात्रों का एडमिट कार्ड नहीं बन पाने से परीक्षा दो साल से रुकी हुई थी. अब यह उलझन सुलझ गई है. परीक्षा नियंत्रक डॉ. गजेंद्र प्रसाद गडकर ने बताया परीक्षा शाखा में कार्यरत एजेंसी ने पासवर्ड उपलब्ध करा दिया है और अब एडमिट कार्ड आदि बनाने की प्रक्रिया शुरू होगी. यही नहीं दिसंबर की शुरुआत से ही विभिन्न पेंडिंग परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी.

    असल में छात्रों का डाटा कम्प्यूटर में सेव था, लेकिन एजेंसी का कार्यकाल पूरा हो गया था. कुछ एजेंसियां दागी हो गई थीं इसलिए विश्वविद्यालय में परीक्षा और रिजल्ट संबंधित कार्य ठप हो गए थे. विश्वविद्यालय प्रशासन के दखल के बाद पुरानी एजेंसी ने अब पासवर्ड उपलब्ध कराया है. अब काम में तेजी आई है और उम्मीद है जल्द ही विश्वविद्यालय में लंंबित परीक्षाएं शुरू होंगी.

    ग्रैजुएशन के एग्जाम बाद में, पहले पिछली परीक्षाएं

    डॉ. गडकर ने बताया कि पासवर्ड मिलने के बाद पहले उन परीक्षा परिणामों का प्रकाशन होगा, जो पिछले करीब दो साल से पेंडिंग थीं. इसके बाद ग्रैजुएशन पार्ट थर्ड के एग्ज़ाम होंगे. उन्होंने बताया कि एजेंसी संचालक सोनू कुमार ने पासवर्ड उपलब्ध कराया व अन्य सभी फाइलों के ओपन किए जाने में भी सहयोग करने को कहा. असल में एजेंसी संचालक के मगध विश्वविद्यालय के पास बकाया का भुगतान व अन्य विषयों पर प्रभारी कुलपति से आश्वासन मिलने के बाद यह निर्णय लिया गया. गडकर के मुताबिक कुछ दिनों में कंप्यूटर सेल पूरी तरह काम करने लगेगा व एडमिट कार्ड आदि बनने शुरू हो जाएंगे.

    Tags: Gaya news, University Exams

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें