Bihar: 47 वारदातों का आरोपी MCC जोनल कमांडर ने सुरक्षाबल के सामने डाले हथियार
Gaya News in Hindi

Bihar: 47 वारदातों का आरोपी MCC जोनल कमांडर ने सुरक्षाबल के सामने डाले हथियार
नक्सली ने किया सरेंडर.

एमसीसी के गया जिला के छकरबंधा इलाके के जोनल कमांडर (Zonal Commander) रह चुके और कुल 47 केस के आरोपी नवल भुईयां ने सुरक्षाबलों के सामने सरेंडर (Surrender) कर दिया है. 

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 11, 2020, 10:53 PM IST
  • Share this:
गया. नक्सलियों (Naxali) का पूरी तरीके से सफाया करने के लिए बिहार सरकार सुरक्षाबल के जरिए एक साथ कई मोर्चे पर काम कर रही है. नक्सली इलाके के लोगों का विश्वास जीतने के लिए सुरक्षाबल कई तरह के सामाजिक दायित्व का निर्वाह कर रही है. वहीं लालगढ़ में सर्च ऑपरेशन चलाकर कर लगातार नक्सलियों की गिरफ्तारी या मुठभेड़ होने पर उसे मार कर गिरा दे रही है. इसके साथ ही नक्सली संगठन से बाहर निकलने की चाहत रखने वाले कमांडर और उनके गुर्गों को मुख्य धारा में लाने का मार्ग भी प्रशस्त कर रही है. एमसीसी के गया जिला के छकरबंधा इलाके के जोनल कमांडर रह चुके और कुल 47 केस के आरोपी नवल भुईयां ने सुरक्षाबलों के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया.

गया के रामपुर स्थित सीआरपीएफ के 159वीं बटालियन के मुख्यालय परिसर में आत्मसमर्पण समारोह आयोजित किया गया जिसमें सीआरपीएफ के डीआईजी संजय कुमार, कमांडेंट निशीत कुमार और गया के एसएसपी राजीव मिश्रा ने फूलों का गुलदस्ता देकर जोनल कमांडर नवल भुईयां का मुख्यधारा में स्वागत किया. वहीं, सीआरपीएफ और पुलिस विभाग के अन्य अधिकारियों माला पहनाकर नवल भुईंया को मुख्यधारा में शामिल होने के लिए बधाई दी. नवल ने अपनी जमीन के विवाद सुलझाने के लिए 2001 में नक्सली दुनियां में कदम रखा था.
सुरक्षाबलों के अभियान से परास्त हो रहे हैं नक्सली- सीआरपीएफ DIG
सीआरपीएफ के डीआईजी संजय कुमार ने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा कि इस इलाके में जिला पुलिस के साथ सीआरपीएफ,कोबरा,एसएसबी एवं अन्य एजेंसी नक्सलियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रहे हैं. जिस इलाके में दिन के उजाले में सुरक्षाबलों को जाने से पहले सोचना पड़ता था और उस इलाके में रात में भी अभियान चलाया जा रहा है. नक्सली भागते फिर रहे हैं. वहीं नक्सली संगठन के अंदर भी कई तरह के दमनकारी नीति चल रही है जिसकी वजह से कई नक्सली अपने संगठन को छोड़कर मुख्य धारा में शामिल होना चाहते हैं. उऩ्होंने मीडिया के माध्यम से अन्य नक्सलियों से मुख्यधारा में शामिल होने की अपील की है. वहीं एसएसपी राजीव मिश्रा ने कहा कि नक्सली संगठन में वैचारिक संघर्ष की सोच खत्म हो गई है. नक्सली संगठन के टॉप लीडर आर्थिक उपार्जन में लगे हुए हैं.
ये भी पढ़ें: गर्भवती महिला का हो रहा था कोरोना जांच, अचानक गले में टूटकर फंसा स्लाइड, फिर...
 नई जिंदगी की शुरुआत



सुरक्षाबलों के समक्ष आत्मसमर्पण करने वाले नवल भुईयां ने कहा कि आज से वे नई जिंदगी की शुरुआत कर रहे है. पिछले महीने जब नक्सलियों के सरेंडर करने पर सुरक्षाबलों द्वारा सम्मानित करने की खबर सुनी तो उसने भी सरेंडर करने का मन बना लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज