लाइव टीवी

इस दिवाली 9 हजार छतविहीन परिवार अपने घरों करेंगे गृहप्रवेश, पीएम आवास योजना में मिले आशियानों में जलेंगे दीप

News18 Bihar
Updated: October 22, 2019, 10:46 AM IST
इस दिवाली 9 हजार छतविहीन परिवार अपने घरों करेंगे गृहप्रवेश, पीएम आवास योजना में मिले आशियानों में जलेंगे दीप
प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गया में दीपावली के दिन 9000 से अधिक लाभुकों को उनके नए घर मिल जाएंगे.

प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ वैसे लोगों को दिया जा रहा है जो कई सालों से छत विहीन हैं और किसी तरह मिट्टी के टूटे घर या झोपड़ी में गुजारा कर रहे हैं. ऐसे में इस योजना का लाभ लेकर घर बनाने वाले लोग काफी खुश और उत्साहित हैं.

  • Share this:
गया. बिहार के इस जिले की कुल आबादी 50 लाख से अधिक है और इनमें से एक बड़ी आबादी भूमिहीन और घरविहीन है. अब ऐसे लोगों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhanmantri Awas Yojna) एक वरदान साबित हो रही है और घरविहीन लोगों के खुद का घर होने के सपनों को पूरा कर रही है. इस दीपावाली में गया के करीब 10 हजार वैसे नए घरों में दीप जलेगें जिनके मालिक अभी तक घर विहीन थे.

इन्हें प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत 1 लाख 30 हजार की सरकारी सहायता राशि मिली है और इनलोगों ने सरकारी राशि से निर्माण सामग्री खरीदकर खुद की मेहनत से पक्का मकान बनाया है.  अब दीपावली के अवसर पर सरकारी अधिकारियों की मदद से गृहप्रवेश करेंगे.

दीपावली के दिन तक सभी लाभूकों को घर मिल जाए इसके लिए जिला प्रशासन मिशन मोड में कार्य कर रहा है.


दरअसल मोदी सरकार के 2022 तक सभी परिवार को घर देने की योजना के तहत गया जिला में लगातार काम हो रहा है. सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत तीनों किश्त पाने वाले लाभुकों को दीपवाली के दिन गृह प्रवेश कराने का निर्देश ग्रामीण विकास अभिकरण (Rural development agency) को दिया गया है.

इस निर्देश को लकेर जिला के उपविकास आयुक्त किशोरी चौधरी ने बताया कि सरकार ने जिले में 9119 आवास का गृहप्रवेश दीपवाली के दिन कराने का लक्ष्य दिया गया है और वे लोग 10 हजार 13 के लक्ष्य लेकर काम कर रहें हैं. जिसको लेकर उनके हरेक पंचायत के आवास सहायक लगातार मेहनत कर रहे हैं.

इस योजना पर काम कर रहे मानपुर प्रखंड के गेरे पंचायत के आवास सहायक मुकेश कुमार ने बताया कि वे लोग अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए काफी पहले से ही काम कर रहे हैं और इस साल वे अपनी दीपवाली इन्ही लाभुक के साथ मनाएंगे.

बता दें कि प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ वैसे लोगों को दिया जा रहा है जो कई सालों से छत विहीन हैं और किसी तरह मिट्टी के टूटे घर या झोपड़ी में गुजारा कर रहे हैं. ऐसे में इस योजना का लाभ लेकर घर बनाने वाले लोग काफी खुश और उत्साहित हैं.
Loading...

इस दीपवाली अपने नए घर में दीप जलाने की तैयारी कर रही मानपुर प्रखंड के गेरे पंचायत के महादलित टोला में रहनेवाली गोलकी देवी ने बताया कि वह शादी करने के बाद से ही मिट्टी के घर में कई सालों से रह रही थी. फिर धीरे-धीरे मिट्टी का घर टूट गया जिससे बारिश और भीषण गर्मी में उसे  दूसरे के घरों मे शरण लेनी पड़ती थी, पर इस दीपावली में अपने सपनों के पक्के घर में दीप जलाएगी.

मानपुर प्रखंड की गरीब-दलित बस्ती में रहने वाली गोलकी देवी पीएम आवास योजना के तहत बने घर में प्रवेश करने के लिए उत्सुक हैं.


बकौल गोलकी देवी सरकार से उसे एक लाख 30 हजार की सहायता राशि मिली थी और इससे बालू, सीमेंट, छड़ एवं ईंट की खरीददारी की और एक राजमिस्त्री रखकर पूरे परिवार ने मेहनत की. अब उसका घर पूर हो गया है.

इसी तरह यहां के गिरजा मांझी अपना घर नहीं होने की वजह से ससुराल में रहकर गुजारा करता थे पर प्रधानमंत्री आवास योजना से इन्हें अपना घर मिला है और इस दीपावली वह नए घरे में गृहप्रवेश करने वाले हैं. गिरजा मांझी ने बताया कि झोपड़ी का घर रहने की वजह से उनके बच्चे घर में पटाखा भी नहीं छोड़ पाते थे पर इस साल उनके बच्चे छत पर चढ़कर पटाखा छोड़ेंगे.

इसी गांव के बुट्टा मांझी का भी नया घर बनकर तैयार हो गया है और वह दीपावली के दिन गृहप्रवेश के साथ ही पूरे मुहल्ले को मिठाई बांटने की तैयारी कर रहा है. ईंट-भट्ठे पर मजदूरी कर पक्का मकान बनाना उसके लिए पाने जैसा था पर सरकारा की प्रधानमंत्री आवास योजना ने उसके सपनें को पूरा कर दिया है.

रिपोर्ट- अरुण कुमार चौरसिया

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 10:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...