लाइव टीवी

पीएम मोदी के इस 'सपने' को पूरा करने में देशभर में टॉप पर आया बिहार का ये जिला, जानें कैसे बदल रही तस्वीर

News18 Bihar
Updated: September 19, 2019, 5:27 PM IST
पीएम मोदी के इस 'सपने' को पूरा करने में देशभर में टॉप पर आया बिहार का ये जिला, जानें कैसे बदल रही तस्वीर
जलशक्ति अभियान 1 जुलाई 2019 से शुरू हुआ था जिसके बाद जिला प्रशासन ने जल मंत्रालय के मापदंडों के अनुसार तेजी से काम करना शुरू कर दिया था.

यह अभियान 1 जुलाई 2019 से शुरू हुआ था जिसके बाद जिला प्रशासन ने जल मंत्रालय के मापदंडों के अनुसार तेजी से काम करना शुरू कर दिया था.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 19, 2019, 5:27 PM IST
  • Share this:
गया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा शुरू किये गए जल शक्ति अभियान में गया जिला (Gaya District) देश भर में प्रथम रैंक पर पहुंच गया है. जिले को यह प्रथम रैंक देशभर के 253 जिला में किए जा रहे काम के आधार पर 16 सितंबर को जारी सूची में मिली है और 18 सितंबर तक भी वह नंबर एक की पोजीशन पर बरकरार रहा. गौरतलब है कि जल संकट से जूझ रहे गया समेत बिहार के 12 जिला को पीएम मोदी के जलशक्ति अभियान (Mission Jal shakti) के लिए चुना गया था और  गया जिला के तीन प्रखंड इमामगंज, डुमरिया और मानपुर प्रखंड का चयन किया गया था.


यह अभियान 1 जुलाई 2019 से शुरू हुआ था जिसके बाद जिला प्रशासन ने जल मंत्रालय के मापदंडों के अनुसार तेजी से काम करना शुरू कर दिया था. इन तीन प्रखंड में 20 लाख लक्ष्य के अनुपात में अब तक करीब 17 लाख पौधारोपण कर लिया गया है.






Loading...



Gaya
गया में वृक्षारोपण अभियान



इसके साथ ही करीब 700 रिचार्ज बोरवेल बनाया गया है जो बारिश के पानी को भगर्भ जल तक ले जाकर

रिचार्ज करेगा. करीब 200 रूफ टॉप हारवेस्टर बनाया है जो बर्षा को जल को संचित करेगा करीब 700 परम्परागत जलस्रोत की खुदाई करवायी गयी है.



सड़क किनारे ट्रेनचेज और नल जल योजना की टंकी और चापाकल के नजदीक सोखता का निर्माण करवाया है. जिसका फायदा आनेवाले समय में गया के लोगों को देखने को मिलेगा. इस अभियान में सरकारी अधिकारी के साथ ही गैर सरकारी संगठन एवं स्कूली बच्चो ने बढ-चढकर हिस्सा लिया.





गया में जलशक्ति अभियान के तहत सड़क किनारे ट्रेनचेज और नल जल योजना की टंकी और चापाकल के नजदीक सोख्ता के निर्माण करवाए जा रहाे हैं. 



इस उपलब्धि से उत्साहित जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि अंतिम रूप से फाइनल सूची अब 30 सितंबर को जारी होगी, जिसमें भारत सरकार के जल मंत्रालय द्वारा देशभर के विभिन्न राज्यों के चिन्हित जिलों में जलशक्ति अभियान के तहत कराये जा रहे कार्यो की रैंकिंग तय की जाएगी और उन्हें उम्मीद है कि उनकी बेहतर रैंकिंग जारी रहेगी. बता दें कि पहले यह रैकिंग 15 सितंबर को ही अंतिम रूप से जारी करने की योजना थी पर विभाग ने इसे 30 सितंबर तक बढाने का निर्णय लिया है.




अंतिम रूप से फाइनल सूची अब 30 सितंबर को जारी होगी, जिसमें भारत सरकार के जल मंत्रालय द्वारा देशभर के विभिन्न राज्यों के चिन्हित जिलों में जलशक्ति अभियान के तहत कराये जा रहे कार्यो की रैंकिंग तय की जाएगी. 



जिलाधिकारी ने कहा 30 सितंबर को पीएम की जलशक्ति योजना के संपन्न होने के तुरंत बाद 2 अक्टूबर से सीएम नीतीश कुमार की जल जीवन हरियाली योजना शुरू हो रही है और इस योजना के तहत पुराने तालाब, सरोवर, पईन, आहर समेत परम्परागत जल स्रोत की उड़ाही और निर्माण का कार्य होगा. इससे सुखाड़ झेल रहे गया जिला को अगले दो तीन साल के बाद निजात मिलने की उम्मीद की सकती है.


रिपोर्ट- अरुण कुमार चौरसिया


ये भी पढ़ें- 


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 5:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...