अर्धसैनिक बलों के लिए बनाए जा रहे कैम्प पर नक्सली हमला, स्कूल बिल्डिंग में लगाई आग

आगामी लोकसभा चुनाव को बेहतर तरीके से संपन्न करवाने के लिए नक्सल क्षेत्र सोनदाहा में सीआरपीएफ कैंप का निर्माण कराया जा रहा था.

News18 Bihar
Updated: March 16, 2019, 12:47 PM IST
अर्धसैनिक बलों के लिए बनाए जा रहे कैम्प पर नक्सली हमला, स्कूल बिल्डिंग में लगाई आग
गया में नक्सलियों ने स्कूल बिल्डिंग में लगाई आग
News18 Bihar
Updated: March 16, 2019, 12:47 PM IST
बिहार के गया में एक बार फिर नक्सलियों ने उत्पात मचाया है. बताया जा रहा है कि यहां लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अर्धसैनिक बलों के लिए टेंट लगाए जा रहे थे. नक्सलियों ने स्कूल और कैंप में हमला कर  टेंट और दो जेनेरेटर को आग के हवाले कर दिया. एसएसपी राजीव मिश्रा ने इस घटना की पुष्टि की है.

बता दें कि आगामी लोकसभा चुनाव को बेहतर तरीके से संपन्न करवाने के लिए नक्सल क्षेत्र सोनदाहा में सीआरपीएफ कैंप का निर्माण कराया जा रहा था. चुनाव के पूर्व ही नक्सलियों द्वारा स्कूल में हमला कर पुलिस के इरादों पर पानी फेर दिया है.

ये भी पढ़ें- राजस्थान सोना लूटकांड में शामिल 3 अपराधी एनकाउंटर में ढेर, दो AK-47 रायफल बरामद



गया के सोनदाहा स्कूल में नक्सलियों ने जेनरेटर में भी आग लगा दी


स्कूल परिसर की हालत देखने से साफ लगता है कि नक्सलियों ने काफी उत्पात मचाया है. स्कूल के हर कमरे में आग लगाई गई है और कई आवश्यक चीजों को आग के हवाले कर दिया है.

घटना की पुष्टि करते हुए एसएसपी राजीव मिश्रा ने बताया कि लोकसभा चुनाव में बाहर से आने वाले अर्धसैनिक बलों के रहने के लिए कैंप बनाया गया  था जिसकी तैयारी के लिए यहां टेंट एवं जेनरेटर लगाया गया था पर बलों के आने से पहले ही यहां नक्सलियों ने आग लगा दी.

बता दें कि एक दिन पहले ही सीमावर्ती औरंगाबाद जिले के मदनपुर थानाक्षेत्र में पुलिस के साथ नक्सलियों की मुठभेड़ हुई थी. ऐसी भी आशंका जतायी जा  रही है कि बांकेबाजार से सोनदाहा जाने वाले मुख्य मार्ग में कई जगह आईईडी बम भी प्लांट किये गए हैं.
Loading...

बताया जा रहा है कि नक्सलियों की यह साजिश थी कि स्कूल में आगजनी की सूचना पर आगर रात में ही पुलिस घटना स्थल के लिए निकलती है तो आईईडी बम विस्फोट कर सुरक्षाबलों को निशाना बनाया जाय.  गौरतलब है कि इन इलाकों में चुनाव के दौरान पुलिस के लिए नक्सलियों द्वारा ज्यादा चुनौती खड़ी की जाती  है.

2014 के लोकसभा और 2015 के विधानसभा चुनाव के दौरान दर्जनों आईईडी प्लांट किये गए थे जिसे सुरक्षाबलों ने डिफ्यूज कर नक्सलियों के मसूबों को नाकमयाब कर दिया था.  इस बार चुनाव की तैयारी की समीक्षा करने आये राज्य के  मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ए.आर श्रीनिवास ने शुक्रवार को स्वीकार किया था कि इन क्षेत्रों में मतदान कराना दूसरे इलाके के अपेक्षा ज्यादा चुनौतीपूर्ण है.

इनपुट - अरुण कुमार चौरसिया

ये भी पढ़ें - 

 

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...