Bihar Election 2020: वोटिंग से 48 घंटे पहले सील हो जाएगा बिहार-झारखंड बॉर्डर, गया में हाई लेवल मीटिंग

बिहार के गया में आयोजित हाई लेवल मीटिंग में मौजूद अधिकारी
बिहार के गया में आयोजित हाई लेवल मीटिंग में मौजूद अधिकारी

Bihar Election 2020: बिहार के गया (Gaya) जिले की सीमा झारखंड से लगती है और ये नक्सल (Naxal) प्रभावित इलाका है. बिहार के गया में पहले फेज के तहत ही 28 अक्टूबर को वोटिंग होनी है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 30, 2020, 11:53 PM IST
  • Share this:
गया. बिहार विधानसभा में चुनाव के दौरान सुरक्षा एवं अन्य मुद्दों को लेकर बिहार-झारखंड के अधिकारियों की हाई लेवल मीटिंग बोधगया (Bodhgaya) के एक निजी होटल में में आयोजित की गई. इस बैठक में मतदान से 48 घंटे पहले बॉर्डर सीलिंग की कार्रवाई के साथ ही विभिन्न जिलों की सीमा पर चेक पोस्ट का निर्माण पर चर्चा की गयी है. बैठक में अंतर्राज्यीय स्तर पर नगद राशि की आवाजाही की जांच पड़ताल करने और चोरी छिपे शराब एवं हथियार ले जा रहे लोगों पर कार्रवाई तेज करने पर रणनीति बनाई गयी.

चुनाव को लेकर बिहार-झारखंड के सीमावर्ती क्षेत्र में नक्सलियों के खिलाफ दोनों राज्यों की पुलिस और अर्धसैनिक बलों द्वारा संयुक्त अभियान की समीक्षा करते हुए इसे चुनाव तक लगातार जारी रखने की रणनीति बनायी गयी ताकि नक्सली संगठन चुनावी प्रक्रिया में किसी तरह का बाधा उत्पन्न नहीं कर सकें.
यह बैठक मगध आयुक्त असंगमा चुबा आओ की अध्यक्षता में आयोजित की गयी जिसमें मगध के आईजी राकेश राठी, गया, औरंगाबाद एवं नवादा के डीएम एवं एसपी बैठक में शामिल हैं.


झारखंड की तरफ से पलामू एव हजारीबाग के आयुक्त एवं डीआईजी के साथ ही पलामू, चतरा, हजारीबाग, कोडरमा एवं गिरीडीह के डीसी एवं एसपी इस बैठक में शामिल हुए. नक्सलियों के खिलाफ अभियान चलाये जाने को लेकर सीआरपीएफ एवं अन्य अर्धसैनिक बल के अधिकारी भी बैठक में शामिल हुए.



गौरतलब है कि इस इलाके में प्रथम चरण में 28 अक्टूबर को मतदान होना है और उसके लिए 1 अक्टूबर को अधिसूचना जारी होने वाली है. 1 अक्टूबर से 8 अक्टूबर के बीच प्रत्याशियों द्वारा नामांकन पत्र भरा जाएगा, इस बीच 1 अक्टूबर को ही चुनाव आयोग की उच्चस्तरीय टीम गया दौरे पर आ रही है जिसमें मगध प्रमंडल के साथ ही आसपास के 12 जिला के अधिकारियों के साथ हुआ चुनाव तैयारी की समीक्षा करेगी. समीक्षा के दौरान सीमावर्ती इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था की भी चर्चा की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज