मिसाल : पुलिसकर्मियों ने किया इनकार तो थानाध्यक्ष ने खुद उठाई मजदूर की डेड बॉडी, पैदल ही थाने ले गए उसकी साइकिल
Gaya News in Hindi

मिसाल : पुलिसकर्मियों ने किया इनकार तो थानाध्यक्ष ने खुद उठाई मजदूर की डेड बॉडी, पैदल ही थाने ले गए उसकी साइकिल
मजदूर के शव को उठाते हुए डेल्हा थानाध्यक्ष अरुण कुमार.

जब मजदूर गिरकर बेहोश पड़ा था तो स्थानीय लोगों ने कोरोना पेशेंट होने के शक में उसे हाथ तक नहीं लगाया. थोड़ी ही देर बाद पुलिस भी पहुंच गई, लेकिन वे भी असमंजस में दिखे.

  • Share this:
गया. लॉकडाउन (Lockdown) के कारण दूसरे प्रदेशों से अपने राज्य बिहार (Bihar) वापस आ रहे मजदूरों के साथ ऐसा लगता है कि विपदा भी आ रही है. गया में साइकिल से घर जाने के दौरान रास्ते में एक मजदूर की मौत हो गई. शहर के डेल्हा थाना क्षेत्र के पास धनिया बगीचा के पास हुई इस घटना में मजूदर ने अपनी साइकिल पर ही दम तोड़ दिया. हालांकि मजदूर  (Labor) की मौत किस वजह से हुई है ये अभी स्पष्ट नहीं हुआ है. लेकिन इस दौरान एक वाकया ऐसा भी हुआ जिसने एक बार फिर मानवीय संवेदना की मिसाल पेश की है.

दरअसल जब मजदूर गिरकर बेहोश पड़ा था तो स्थानीय लोगों ने उसे कोरोना पेशेंट होने के शक में हाथ तक नहीं लगाया. इसके थोड़ी ही देर बाद पुलिस भी पहुंच गई, लेकिन वे भी असमंजस में दिखे. इस बीच डेल्हा थानाध्यक्ष अरुण कुमार ने अपने पुलिसकर्मियों को शव उठाने को कहा, लेकिन  उनमें से किसी ने भी उनकी बात नहीं सुनी. तब थानाध्यक्ष ने खुद आगे आकर उसके बच्चों के साथ बॉडी का उठाया और वाहन पर रखा. यही नहीं डेड बॉडी को भेजकर थानाध्यक्ष खुद ही मजदूर की साइकल को पैदल ही  डेल्हा थाना ले गए.

फिलहाल शव को पोस्टमार्टम के लिए अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल अस्पताल भेज दिया गया है. पुलिस के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का कारण पता चल पाएगा. मृतक की पहचान मानपुर के कुम्हार टोली के जोगिंद्र साव के रूप में पहचान हुई जो कुर्था के मानिकपुर गांव में एक गैराज में काम करता था. बताया जा रहा है कि वह सोमवार की  सुबह गया स्थित मानपुर साइकिल से घर जा रहा था, इसी दौरान रास्ते में ही उसकी मौत हो गई.



कोरोना के खौफ के कारण मृतक मजदूर के शव को लोगों ने हाथ तक नहीं लगाया.




हालांकि मजदूर की मौत के बाद स्थानीय लोगों की काफी भीड़ इकट्ठी हो गयी थी. लोगों को भय सता रहा था कि इसकी मौत कहीं कोरोना से तो नहीं हुई. मृतक के पुत्र अमन कुमार ने बताया की उसके पिता कुर्था  के मानिकपुर में गैराज में काम करते थे. सोमवार की सुबह घर आ रहे थे तभी रास्ते में से पापा ने फोन किया कि मेरे पेट मे अचानक तेज दर्द हो रहा है. अमन ने बता कि इसके बाद फोन कट गया. जब उस रास्ते मे खोजबीन की तो सड़क किनारे मेरे पापा की मौत हो चुकी थी. उसने बताया कि पापा को कोई बीमारी नही थी, लेकिन अचानक मौत हो गई.

वहीं डेल्हा थानाध्यक्ष अरुण कुमार ने बताया कि जानकारी मिली थी कि एक मजदूर की मौत हो गई है जिसके बाद हम सब पहुंचे, शुरुआती तौर पर ऐसा लग रहा है पेट के दर्द से उसने दम तोड़ दिया पर पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद स्पष्ट होगा कि किस कारण से मौत हुई है.

ये भी पढ़ें :-

लालू-नीतीश के करीबी रहे नेता की भविष्यवाणी- अगला मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे नीतीश कुमार! बढ़ा सियासी बवाल

 देश के 50 प्रभावशाली व्यक्तियों में शामिल हुए नीतीश, राहुल गांधी- बाबा रामदेव समेत इन दिग्गजों को पछाड़ा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading