गया में कहर बरपा सकता है कोरोना, मरीजों का शव जलाने के बाद नदी में फेंके जा रहे बॉक्स, PPE किट
Gaya News in Hindi

गया में कहर बरपा सकता है कोरोना, मरीजों का शव जलाने के बाद नदी में फेंके जा रहे बॉक्स, PPE किट
गया में कोरोना के मरीज का शव जलाने के बाद पीपीई किट फेंकता स्वास्थ्यकर्मी

गया के जिला पदाधिकारी अभिषेक सिंह ने गया नगर निगम पर अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि कोरोना संदिग्ध और संक्रमित शवों के लिए निगम द्वारा एक विशिष्ट घाट को चिन्हित किया जा रहा है, जहां अंतिम संस्कार किया जाएगा.

  • Share this:
गया. बिहार के गया से कोरोना (Corona Pandemic) को लेकर बरती जा रही बड़ी लापरवाही की तस्वीरें सामने आई है. गया में लगातार कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या में इजाफा हो रहा है. हर दिन सौ से ज्यादा मामले निकल रहे हैं लेकिन कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) की मौत के बाद शवों को जलाने में जो लापरवाही बरती जा रहा है उससे लोग खौफजदा हैं. आस्पताल में इलाज के दौरान जिस किसी की भी मौत हो रही है अस्पताल प्रशासन द्वारा मृत बॉडी को स्पेशल किट (Special Kit) में लपेटकर एक बॉक्स में अंतिम संस्कार के लिए विष्णुपद स्थित श्मशान घाट भेजा जा रहा है लेकिन लापरवाही का ऐसा आलम है कि पूरे क्षेत्र में ग्लब्स, पीपीई किट्स, शव का बॉक्स नदी में फेंका पड़ा है.

नदी किनारे फेंके जा रहे बॉक्स और पीपीई किट

दरअसल एम्बुलेंस कर्मी जब भी कोरोना संक्रमित या कोरोना संदिग्ध का शव लाते हैं तो जाते समय नदी के किनारे खुले में ही पीपीई किट और ग्लब्स उतार कर फेंक जाते हैं जो दूसरो के लिए कोरोना का आमंत्रण साबित हो रहा है. पिछले कई दिनों से कोरोना संक्रमितों के शव का बॉक्स भी नदी के किनारे फेंका पड़ा मिला है. कोरोना से मरने वाले व्यक्ति को बॉक्स के साथ ही जलाने का प्रावधान है,लेकिन कई लोग बॉक्स से बाहर निकाल कर शव को जलाते हैं जो काफी खतरनाक है.



दहशत में लोग
सरकार के निर्देश के बाद कोरोना संक्रमित मरीज को अब उनके परिजनों को भी सौंप दिया जाता है जिससे उनके परिजन बॉक्स से बाहर निकाल कर ही उनका अंतिम संस्कार करते हैं. स्थानीय राजेश कुमार और अन्य लोगों ने बताया कि यहां पर सभी ऐसे लोगो को बॉक्स सहित शव को जलाने की बात कहते है लेकिन कोई सुनता नही है. स्थानीय लोगों ने बताया हम सब यहां कफन की दुकान चलाते हैं ऐसे में खुले में पीपीई किट, ग्लब्स और शव के बॉक्स को फेंकने से भयभीत हैं.

पिंड दान करने वालों पर भी खतरा

स्थानीय वार्ड पार्षद प्रतिनिधि सुदामा कुमार दुबे ने बताया कि श्मशान घाट पर कोरोना संक्रमित शवों को जलाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा कोई विशेष व्यवस्था नहीं की गई है. पास में ही इसी नदी में पिंडदानी पिंडदान करते है जिससे उनलोगों को भी खतरा बना रहता है.

डीएम बोले

इस सम्बंध में जिला पदाधिकारी अभिषेक सिंह ने गया नगर निगम पर अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि कोरोना संदिग्ध और संक्रमित शवों के लिए निगम द्वारा एक विशिष्ट घाट को चिन्हित किया जा रहा है, जहां अंतिम संस्कार किया जाएगा. उन्होंने बताया कि शवों के बॉक्स फेंके जाने का मामला संज्ञान में आया है. नगर निगम को इसकी व्यवस्था करने के लिए निर्देशित किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading