लाइव टीवी

गया हत्याकांड: जानिए क्या कहती है पुलिस की 'थ्योरी' और क्यों उठ रहे हैं इस पर सवाल

Vijay jha | News18 Bihar
Updated: January 12, 2019, 9:50 PM IST

गया पुलिस इसे ऑनर किलिंग का मामला बता जांच जारी रहने की बात कह रही है, लेकिन मृतका की बहन ने पुलिस पर टॉर्चर कर झूठा बयान दर्ज करने का आरोप लगाया है.

  • Share this:
गया के पटवा टोली से 28 दिसंबर को एक नाबालिग लड़की लापता हो गई. इसके बाद 6 जनवरी को उसकी लाश क्षत-विक्षत हालत में मिली. गुनहगारों को पकड़ने का दबाव बढ़ा तो पुलिस ऑनर किलिंग की थ्योरी लेकर सामने आ गई और मृतका के माता-पिता को ही गिरफ्तार कर लिया गया. हालांकि मां को शुक्रवार की शाम में छोड़ दिया गया है. हालांकि पुलिस की अपनी थ्योरी है, लेकिन इस पर कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं.

पुलिस की 'थ्योरी'

पुलिस के अनुसार 28 दिसंबर को एक लड़की लापता हो गयी थी जिसकी सूचना परिजनों ने पुलिस को दो-तीन दिन बाद दी, जिससे पुलिस को परिवार पर संदेह हो रहा है. पुलिस यह भी कहती है कि लापता लड़की के परिजन प्राथमिकी दर्ज नहीं कराना चाहते थे, फिर भी इस मामले में 4 जनवरी को प्राथमिकी दर्ज कर मामले की छानबीन की जा रही थी. छानबीन के दौरान 6 जनवरी को बुनियादगंज थाना क्षेत्र से लड़की का शव बरामद किया गया. जिसका सिर धड़ से अलग था और हाथ भी कटे हुए थे. चेहरे पर केमिकल भी डाला गया था.

ये भी पढ़ें- OPINION: गया में हुई बर्बर हत्या या ऑनर किलिंग, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलेंगे राज

पुलिस का दावा है कि मृतका की बड़ी बहन ने बताया है कि लड़की 31 दिसंबर को वापस लौटी थी. लड़की के पिता ने उसके एक दोस्त के साथ उसे बाहर भेजा था. गया के एसएसपी राजीव मिश्रा के अनुसार शव देखने से प्रतीत होता है हत्या 5-6 दिन पहले की गई है. इसी आधार पर लड़की के पिता और उसके दोस्त को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. एसएसपी ने कहा कि प्रथम दृष्टया ये मामला रेप का नहीं लगता बल्कि हत्या परिवार के सदस्यों द्वारा किया जाना प्रतीत हो रहा है.

पुलिस 'थ्योरी' पर उठ रहे सवाल

4 बहनों वाले इस परिवार में मृतका दूसरे नंबर की बेटी थी. उसकी बड़ी बहन (जो खुद नाबालिग बताई जा रही है) ने पुलिस पर टॉर्चर करने का आरोप लगाया है और जबरन बयान दिलवाने की बात कह रही है. मृतका की बड़ी बहन ने कई मीडिया वालों से बात की है और वह बार-बार दोहरा रही है कि उसने 28 दिसंबर के बाद उसकी लाश ही देखी. पटवा टोली के लोग भी यही कहते हैं. पुलिस पीड़िता के पिता के अलावा उनके दोस्त को मुख्य अभियुक्त बता रही है.
Loading...

ये भी पढ़ें- गया में गैंगरेप-मर्डर या ऑनर किलिंग? मृतक लड़की के माता-पिता गिरफ्तार

पुलिस ने प्रथम दृष्टया रेप की बात से इनकार किया है. ऐसे में अगर ऑनर किलिंग हुई है तो हथियार कहां है, हत्या कहां हुई? पुलिस ये भी कह रही है लड़की के कथित प्रेमी के नाम वाले 3 लड़कों से पूछताछ चल रही है, लेकिन अब तक कुछ भी सामने नहीं आया है. 6 जनवरी को नाबालिग लड़की का शव मिलने के बाद जिस तरह से शव को वैज्ञानिक जांच के पहलू को ध्यान रखे बिना पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया. 6 जनवरी से अब तक एक सप्ताह बीतने को आया है, लेकिन अब तक पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट तक नहीं आई है.

पटवा समाज से आने वाले सामाजिक कार्यकर्ता गोपाल पटवा के अनुसार 16 साल की बच्ची की नहीं, बल्कि पुलिस पीड़िता के पिता को गिरफ्तार कर मानवता की हत्या कर रही है.

बहरहाल, एसएसपी और पटवा समाज के लोगों के बीच में काफी अंतर्विरोध नजर आ रहा है. एक ओर जहां पुलिस की भूमिका को संदिग्ध बताया जा रहा है और उच्च स्तरीय जांच की मांग की जा रही है, वहीं जिला पुलिस अपने स्तर से ही इस अनुसंधान को अंजाम तक पहुंचाना चाह रही है.

(गया से विजय झा की रिपोर्ट)

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 12, 2019, 5:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...