लाइव टीवी

मर्डर की घटनाओं से दहशत में हैं 'IIT की फैक्ट्री' अब तक हो चुकी है 17 हत्याएं

ALEN LILY | News18 Bihar
Updated: December 2, 2019, 11:54 AM IST
मर्डर की घटनाओं से दहशत में हैं 'IIT की फैक्ट्री' अब तक हो चुकी है 17 हत्याएं
बिहार के गया शहर की पहचान आध्यात्मिक राजधानी के तौर पर भी होती है

इस मामले में जब बिहार सरकार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि यह चिंता का विषय है. उन्होंने पुलिस को जल्द से जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए कहा है.

  • Share this:
गया. बिहार की आध्यात्मिक राजधानी और आईआईटी की फैक्ट्री कहे जाने वाले गया में क्राइम आउट ऑफ कन्ट्रोल है. अकेले गया के मानपुर प्रखण्ड में 2019 साल की शुरुआत से अब तक हत्या की अंतिम महीने तक 17 बड़ी घटनाएं हो चुकी हैं. यहां के लोग अपने बच्चों को स्कूल भेजने में भी डर रहे हैं. पुलिस भी इस पर क्षेत्र में अपराध ज्यादा होने की बात कह कर अपनी नाकामयाबी छिपा रही है.

हत्या के अलावा रेप और छिनतई की भी घटनाएं

गया शहर से सटे मानपुर प्रखण्ड में आने वाले दो थाना बुनियादगंज थाना और मुफ्फसिल थाना से पिछले 11 महीने में रेप, लूट, छिनतई छोड़ कर हत्या की 17 बड़ी घटनाएं हो चुकी है जिससे यहां के लोग अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं.  मानपुर के पटवाटोली को बिहार का मैनचेस्टर भी कहा जाता है, यहां के बच्चे आईआईटी में अधिक संख्या में सफल होते हैं, लेकिन जैसे इस क्षेत्र को नजर लग गई है. साल के शुरुआती दिनों में अंजना हत्याकांड के बाद से हत्याओं का सिलसिला जारी रहा.

अधिकारियों के तबादले से भी नहीं बदले हालात

मानपुर क्षेत्र में मुफस्सिल और बुनियादगंज दो थाने हैं. दोनों थानों में कईं बार थानाध्यक्ष से लेकर डीएसपी बदले जा चुके हैं लेकिन अपराधिक घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है. स्थानीय लोगों की मानें तो वे लोग डरे सहमे रहते हैं. बच्चे स्कूल जाते हैं तो हमेशा डर बना रहता है जबकि पहले ऐसा नहीं था. मानपुर संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष कन्हैया कुमार के द्वारा ही ऐसे मामलों को सड़क जाम और पुतला दहन का सिर्फ काम किया जाता है ताकि पुलिस पर दबाब बनाया जा सके. उन्होंने बताया कि अंजना हत्याकांड से लेकर राहुल हत्याकांड तक दर्जनों बार सड़क जाम, जुलूस, मार्च, धरना प्रदर्शन किया गया है लेकिन सरकार और पुलिस पर इसका कोई असर नहीं हुआ.

एसएसपी बोले

इस मामले में एसएसपी राजीव मिश्रा ने कहा कि अपराधियों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया जा रहा है. दो दिन पहले दोनों थाना क्षेत्र से 30 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कहा कि मानपुर प्रखंड में अपराधियों की संख्या ज्यादा होने से अपराध बढ़ा है, लेकिन जल्द ही सभी आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी. इस मामले में जब बिहार सरकार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि यह चिंता का विषय है. उन्होंने पुलिस को जल्द से जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए कहा है.2019 में मानपुर की चर्चित हत्याएं

1. 6 जनवरी को पटवाटोली का चर्चित अंजना हत्याकांड, इसकी गूंज संसद में भी उठी थी।

2. 8 जनवरी को जनकपुर मोहल्ले के ऋषि कुमार की हत्या

3. 13 जनवरी को भूसंडा के रहने वाले राजेंद्र चौधरी की गोली मारकर हत्या

4. 14 जनवरी को अबगिला देवी स्थान मोहल्ले के रोहित कुमार की गोली मारकर हत्या

5. 29 जनवरी को सलेमपुर के रहने वाले मोहम्मद वसीम और पिंटू की गोली मारकर हत्या

6. 2 फरवरी को सलेमपुर टोला बाबूगंज निवासी वीरेंद्र दास की गोली मारकर हत्या

7. 4 फरवरी को सूढी टोला की रहने वाली नानी ने अपनी नातिन की गला दबाकर की हत्या

8. 11 फरवरी को मनियारा गांव में प्रेमी प्रेमिका ऑनर किलिंग

9. 18 फरवरी को पटवाटोली में हत्या कर शव को तालाब में फेंका

10. 22 मार्च को पंजाबी युवक की हत्या कर लोदीपुर गांव में पेड़ से लटकाया

11. 24 मार्च को खाजहांपुर गांव के सीताराम महतो की हत्या

12. 3 मई को रविंद्र राव की गोली मारकर हत्या

13. 4 जुलाई को मुफस्सिल थाना में तैनात जवान सियाराम महतो की बाइपास के पास गोली मारकर हत्या

14. 4 सितंबर को गंधार में बोरिंग मिस्त्री की गोली मारकर हत्या

15. 24 अगस्त को सोहेपुरखेल मैदान में ट्रक मांझी की गोली मारकर हत्या

16. 29 अगस्त को गंजास के रहने वाले कपिल यादव का बंधुआ खदान से शव बरामद

17. 20 नवंबर को जनकपुर के रहने वाले छात्र राहुल का खदान से शव बरामद।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 2, 2019, 11:35 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर