होम /न्यूज /बिहार /गया के यह छात्र अब फ्री में करेंगे सिविल सर्विस की तैयारी, सेंट्रल यूनिवर्सिटी दे रही मौका

गया के यह छात्र अब फ्री में करेंगे सिविल सर्विस की तैयारी, सेंट्रल यूनिवर्सिटी दे रही मौका

गया के सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी में फ्री कोचिंग दी जाएगी.

गया के सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी में फ्री कोचिंग दी जाएगी.

अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों के लिए स्थापित निशुल्क कोचिंग की शुरुआत होने जा रही है. 1 अक्टूबर से दक्षिण बिहार केन्द् ...अधिक पढ़ें

    कुंदन कुमार/गया. सिविल सर्विस की तैयारी करने वालों के लिए खुशखबरी है. अब पैसे की कमी उनकी सफलता में बाधक नहीं बनेगी. बिहार के गया के पंचानपुर स्थित दक्षिण बिहार केन्द्रीय विश्वविद्यालय में डॉ.अम्बेडकर फाउंडेशन, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के सहयोग से अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों के लिए स्थापित निशुल्क कोचिंग की शुरुआत होने जा रही है.

    जन सम्पर्क पदाधिकारी मो. मुदस्सीर आलम ने बताया कि कुलपति प्रो. कामेश्वर नाथ सिंह के निरंतर समर्थन और प्रोत्साहन के साथ सीयूएसबी में यूपीएससी द्वारा आयोजित होने सिविल सेवा परीक्षा के लिए डॉ. आंबेडकर सेंटर फॉर एक्सीलेंस (डीएसीई) में मुफ्त कोचिंग शुरू होने जा रहा है. अक्टूबर सेयह शरू हो रहा है.

    100 सीटों के लिए नामांकन प्रकिया में 98 चयनित, 2 है बांकी
    डॉ. अबेंडकर सेंटर फॉर एक्सीलेंस (डीएसीई) के नोडल ऑफिसर डॉ. राठी कुम्भार (विभागाद्यक्ष, अर्थशास्त्र विभाग) ने बताया कि कोचिंग में नामांकन के पहले अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों के लिए प्रवेश आयोजित की गई थी. प्रवेश परीक्षा में 149 उम्मीदवारों में से 98 उम्मीदवारों का पहले ही नामांकन हो चुका है, दो सीटें अभी भी रिक्त हैं. उन्होंने कहा कि कोई भी उम्मीदवार जो प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए हैं और उनका नामांकन किसी कारणवश नहीं हो पाया है, वे प्रवेश के लिए सीयूएसबी में डीएसीई के नोडल अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं.

    विश्वविद्यालय करेगा तीन नियमित फैकल्टी की नियुक्ति
    निशुल्क कोचिंग को चलाने के लिए विश्वविद्यालय द्वारा तीन नियमित फैकल्टी की नियुक्ति की जाएगी. जिसके लिए डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वित्तीय सहायक उपलब्ध कराया जाएगा. 7 अक्टूबर, 2022 को योग्य उम्मीदवारों का साक्षात्कार आयोजित किया जाएगा. इससे पहले कोचिंग विश्वविद्यालय के आंतरिक संसाधनों यानि वर्तमान शिक्षकों से संचालित होगी. नोडल अधिकारी को उम्मीद है कि निकट भविष्य में सीयूएसबी में संचालित डीएसीई से कोचिंग पा रहे छात्र कुशल मार्गदर्शन में सिविल सेवा परीक्षा में उत्तीर्ण होकर आईएएस बन सकते हैं .

    Tags: Bihar News, Gaya news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें