नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन का सब-इंस्पेक्टर शहीद

शहीद रौशन कुमार लखीसराय के गरसंडा गांव के निवासी थे और 2016 में उन्होंने कोबरा में सब-इंस्पेक्टर के पद पर ज्वाइन किया था.

News18 Bihar
Updated: February 14, 2019, 10:17 AM IST
नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन का सब-इंस्पेक्टर शहीद
शहीद सब-इंस्पेक्टर की फाइल फोटो
News18 Bihar
Updated: February 14, 2019, 10:17 AM IST
बिहार के गया में नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में कोबरा बटालियन के सब-इंस्पेक्टर रौशन कुमार शहीद हो गए हैं. जानकारी के अनुसार डुमरिया के छकरबंदा इलाके के जंगल में नक्सलियों की सूचना पर सर्च ऑपरेशन करने के लिए कोबरा और सीआरपीएफ की टीम गई थी. इसी दौरान नक्सलियों से मुठभेड़ हुई और दोनों तरफ से कई राउंड गोलियां चली .

मुठभेड़ के बाद इलाके से नक्सली भाग खड़े हुए. इस दौरान नक्सलियों द्वारा छिपा कर रखा हुआ तीन आईडी बम बरामद हुआ. बम को बरामद करने के दौरान ही एक बम विस्फोट हो गया जिसमें कोबरा के सब-इंस्पेक्टर रौशन कुमार घायल हो गए. घायल होने की सूचना के बाद उन्हें चौपर की सहायता से बाहर निकाला गया और इलाज के लिए पटना भेजा गया. गंभीर रूप से घायल होने की वजह से रौशन की इलाज के दौरान मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर कोर्ट के आदेश के बाद अभिनेता अनुपम खेर के खिलाफ FIR दर्ज



मिली जानकारी के अनुसार शहीद रौशन कुमार लखीसराय के गरसंडा गांव के निवासी थे और 2016 में उन्होंने कोबरा में सब-इंस्पेक्टर के पद पर ज्वाइन किया था. इस घटना के बाद गया और औरंगाबाद पुलिस के साथ ही कोबरा सीआरपीएफ और एसटीएफ की टीम इलाके में मौजूद है और नक्सलियों के खिलाफ सघन सर्च अभियान चला रही है.

ये भी पढ़ें- प्यार करने की सजा: प्रेमी जोड़े की हत्या कर शव के टुकड़े किए फिर पेट्रोल डालकर जलाया

शहीद सब-इंस्पेक्टर का शव गुरुवार को उनके पैतृक गांव गरसंडा पहुंचा जहां सीआरपीएफ कमांडेंट मुकेश कुमार ने रौशन कुमार को श्रद्वांजलि दी और परिजनों से मिलकर सात्वंना दिलाया. उन्होंने कहा कि रौशन की शहादत देश के लिए अपूरणीय क्षति है. एक तरफ जहां शहीद के अंतिम दर्शन को आसपास के गांव के लोगों का हुजुम उमड़ पड़ा वहीं अब तक शहीद के गांव में न तो जिला प्रशासन और न ही कोई मंत्री या विधायक ही शहीद को श्रद्धांजलि देने पहुंचा है.

शहीद के परिजनों का जहां रो-रो कर बुरा हाल है तो गांव वाले अपने नौजवान बेटे की शहादत पर गर्व महसूस कर रहे हैं.
Loading...

रिपोर्ट- अरूण चौरसिया/ राकेश कुमार
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर