गया में टूट रहा सोशल डिस्टेंसिंग का चक्रव्यूह, राशन लेने पहुंची सैंकड़ों की भीड़
Gaya News in Hindi

गया में टूट रहा सोशल डिस्टेंसिंग का चक्रव्यूह, राशन लेने पहुंची सैंकड़ों की भीड़
गया में राशन लेने पहुंची भीड़

गया स्थित डीआरडीए कार्यालय पर बुधवार को करीब 1000 पुरूष और महिलाएं पहुंच गए. यहां पहुंचे लोगों में से आधे लोगों को ही राहत सामग्री मिल पाई. बुधवार को राहत सामग्री वितरण की सूचना के बाद गुरूवार की सुबह से ही यहां लोगों को भीड़ जुटनी शुरू हो गयी.

  • Share this:
गया. बिहार के गया में कोरोना का पांचों पॉजाटिव मरीज की रिपोर्ट निगेटिव आ गयी है. इनमें से चार अपने घर लौट चुके हैं. पांचवे मरीज का इलाज एएनएमसीएच में चल रहा है. इसके साथ ही पिछले 20 दिन से जिले में एक भी कोरोना का नया पॉजिटव मरीज नहीं मिला है. जाहिर है कि इस खबर के बाद स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है. हालांकि लॉकडाउन (Lockdown) के चलते कामकाज बंद होने से गरीब और मजदूर परिवार के लिए खाद्य सामग्री (Foods) की आपूर्ति वितरण को लेकर जिला प्रशासन काफी परेशान है और वह चाहकर भी कई जगह पर सोशल डिस्टेंसिंग (Social Dictancing) का पालन नहीं करवा पा रही है.

डीआरडीए पर हर रोज जुट रही है भीड़

राहत सामग्री के रूप में सूखा अऩाज के वितरण के लिए डीडीसी किशोरी चौधरी को जिम्मा दिया गया है. सामाजिक सहयोग और जिला प्रशासन द्वारा तैय़ार खाद्य सामग्री के पैकेट के साथ पिकअप वैन डीआरडीए कार्यालय परिसर से रोजाना निकलती है पर पिछले कुछ दिनों से राहत सामग्री लेने के लिए लोगों की भीड़ डीआरडीए कार्यालय पर पही पहुंच जा रही है. ऐसे में सोशल डिस्टेंसिग का पालन कर पाना संभव नहीं हो सकता है.



डीआरडीए कार्यालय पर एक हजार लोगों की भीड़ जुटी



डीआरडीए कार्यालय पर बुधवार को करीब 1000 पुरूष और महिलाएं पहुंच गए. यहां पहुंचे लोगों में से आधे लोगों को ही राहत सामग्री मिल पाई. बुधवार को राहत सामग्री वितरण की सूचना के बाद गुरूवार की सुबह से ही यहां लोगों को भीड़ जुटनी शुरू हो गयी. इसमें कई बुजुर्ग महिला और पुरूष कई घंटे तक कड़ी धूप मे खड़े रहे. इस दौरान कई लोगों ने पंक्ति मे अपनी जगह झोला, चप्पल और ईंट रख दिया था ताकि खाद्यान्न का बंटवारा शुरू होने पर वे पंक्ति में खड़े हो सके.

पुलिस बल ने मौके से लोगों को खदेड़ा

भीड़ की सूचना पाकर सदर डीएसपी राजकुमार शाह मौके पर पहुंचे और लाउडस्पीकर से खाद्यान्न नहीं मिलने की बात कहकर सभी को पुलिस बलों की सहायता से खदेड़ दिया. पुलिस के खदेड़ने के बाद कई बुजुर्ग महिला रोती हुई दिखाई पड़ी. गांधी मैदान में भी जिला प्रशासन द्वारा खाद्यान्न का वितरण किया गया जिसमें सोशल डिस्टेसिंग की धज्जियां उड़ती हुई दिखाई पड़ी.

जिला प्रशासन गरीबों का हरसंभव कर रही है मदद: डीएम

वहीं डीएम अभिषेक सिंह ने कहा कि जिला प्रशासन गरीबों की सहायता के लिए हरसंभव कोशिश कर रही है. सरकार के आदेश के बाद राशनकार्डधारी को अऩाज दिया जा रहा है और शिकायत मिलने पर जनवितरण प्रणाली के दुकानदार पर कार्रवाई की जा रही है।. जिले में कई जगह राहत शिविर केन्द्र संचालित किये जे रहें हैं, जहां दो समय का भोजन दिया जा रहा है. सामाजिक सहयोग से हर दिन जरूरतमंद के बीच जाकर सूखा राशन दिया जा रहा है. सूखा राशन में चावल, दाल, आलू, नमक एवं साबुन दिया जा रहा है. ऐसे में उन्होंने लोगों से कहीं भी भीड़ नहीं लगाने की अपील की है.

लॉकाडाउन पालन कराने को लेकर पुलिस अलर्ट: एसएसपी

वहीं एसएसपी राजीव मिश्रा ने कहा कि लॉडाउन का पालन कराने के लिए जिला पुलिस सतर्क है. जिले के बार्डर से लेकर अलग अलग इलाकों में पुलिस गश्ती कर रही है. भीड़ की सूचना मिलने पर पुलिस की टीम मौके पर जा रही है. सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर जिला पुलिस के साथ ही आमलोगों को भी सहयोग करने की जरूरत है. जिले की अधिकांश आबादी लॉक डाउन का पालन कर रही है पर कुल लोग मनमानी कर रहें हैं. इसके खिलाफ पुलिस रोजाना कार्रवाई कर रही है. एफआईआर और गिरफ्तारी के साथ ही आर्थिक जुर्माना भी किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: बिहार के BJP MLA जीवेश मिश्र पर लॉकडाउन तोड़ने का लगा आरोप, चुप्पी साधी

सीतामढ़ी : चीनी मिल पर 100 करोड़ के बकाये से 50 हजार परिवारों की रोटी पर खतरा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading